2 Comments

T-30/15 अब मुसीबत जो मिरे सामने आई हुई है. शाहिद हसन ‘शाहिद’

अब मुसीबत जो मिरे सामने आई हुई है
अपने ही हाथों की मेरे ये कमाई हुई है

महरबाँ होगी किसी पर मुझे लगता तो नहीं
फिर भी दुनिया ये हर इक शख़्स को भायी हुई है

कल को देखूं तो परेशान सा हो जाता हूँ
हाल से भी न अभी अपनी रसाई हुई है

इस क़दर जलवा नुमाई का है आलम तौबा
आग फूलों ने गुलिस्ताँ में लगाई हुई है

दोनों इक साथ हैं ग़म और ख़ुशी के मंज़र
तुम भी हो दूर इधर ईद भी आई हुई है

खून मासूमों का करना बड़ी बेदर्दी से
और जन्नत भी निगाहों में समाई हुई है

हक़ को हक़ कहना है अंजाम हो चाहे जो भी
अपनी जाँ दाँव पे हमने भी लगाई हुई है

लड़खड़ाता हूँ न मैं होश ही में रहता हूँ
कैसी मय तूने मिरी जान पिलाई हुई है

ग़ैर होता कोई दुश्मन तो संभल भी जाता
ये तो अपनों ही से इस जाँ पे बन आई हुई है

दिल में रह रह के लगाती है कचोके ‘शाहिद ‘
“एक शय ऐसी मिरी जाँ में समाई हुई है”

शाहिद हसन ‘शाहिद’
09759698300

Advertisements

About Lafz Admin

Lafzgroup.com

2 comments on “T-30/15 अब मुसीबत जो मिरे सामने आई हुई है. शाहिद हसन ‘शाहिद’

  1. शाहिद साहब !! बहुत अच्छे शेर कहे है –
    इस क़दर जलवा नुमाई का है आलम तौबा
    आग फूलों ने गुलिस्ताँ में लगाई हुई है
    लहजा गजल की तारीख तक खींच ले जा रहा है इस शेर का !! अंदाज़ बोल रहा है और सानी मिसरा तो खुद एक तरही गजल के लिए बेहतरीन पेशकश है !! वाह वाह
    दोनों इक साथ हैं ग़म और ख़ुशी के मंज़र
    तुम भी हो दूर इधर ईद भी आई हुई है
    ये शेर भी याद रखने वाला है !! quotable anywhere anytime !!
    खून मासूमों का करना बड़ी बेदर्दी से
    और जन्नत भी निगाहों में समाई हुई है
    काश ऐसी कोई मोतबर आवाज़ दहशतगर्दो के कान तक पहुंचे !!!
    दिल में रह रह के लगाती है कचोके ‘शाहिद ‘
    “एक शय ऐसी मिरी जाँ में समाई हुई है”
    शाहिद हसन ‘शाहिद साहब !! बहुत खूबसूरत गजल है दीगर शेर भी बहुत अच्छे कहे है ^–मयंक ’

    • Mayank saheb, ashaar par apka tabsira sheir kahne ka hausla badhata hai.mai apne ko khushnaseeb manta hun k aap jaisa ahle nazar mujhe hasil hai. Darkhwast ye bhi hai k aap bebaaki se tabsira Karen taki shair ko apni kami ka bhi ahsaas ho .agarche kaam mushkil hai lekin aap jaise ahle nazar ko ye haq hasil hai.

Your Opinion is counted, please express yourself about this post. If not a registered member, only type your name in the space provided below comment box - do not type ur email id or web address.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: