24 टिप्पणियाँ

T-30/5 उसने आवाज़ छुपाने का हुनर सीख लिया.. मयंक अवस्थी

बाल उलझे हुये दाढी भी बढाई हुई है
तेरे चेहरे पे घटा हिज्र की छाई हुई है

जैसे आँखों से कोई अश्क़ ढलकता जाये
तेरे कूचे से यूँ आशिक की विदाई हुई है

मैं बगूला था, न होता, वही बेहतर होता
मेरे होने ने मुझे धूल चटाई हुई है

ज़लज़ला आये तो उस घर का बिखरना तय है
जिसकी बुनियाद हवाओं ने हिलाई हुई है

उसने आवाज़ छुपाने का हुनर सीख लिया
उसने आवाज़ में आवाज़ मिलाई हुई है

आपकी सुन के ग़ज़ल इल्म हमें होता है
कल जो अपनी थी वही आज पराई हुई है

मुझ से ख़ुदकुश को भी मजबूर करे जीने पर
“एक शै ऐसी मिरी जाँ मे समाई हुई है”

कोई सुलझा न सका इसके मगर पेचोख़म
ज़ुल्फ हस्ती पे अज़ल से तिरी छाई हुई है

मेरी पहचान मिटाई है मेरे अपनो ने
मेरी तस्वीर रकीबों की बनाई हुई है

अब तो तू जैसे नचायेगा मुझे, नाचूँगा
मेरी कश्ती तेरे ग़िर्दाब में आई हुई है

फिर गुले-ज़ख़्म तिरी फस्ल के इम्कान खुले
फिर किसी दिल की तमन्ना से सगाई हुई है

ढूँढ लेती हैं हरिक ऐब मेरी ग़ज़लों में
तेरी आँखों ने मेरी नींद चुराई हुई है

चाँद बस्ती के मकानों पे दिखे है ऐसे
जैसे कन्दील मज़ारों पे लगाई हुई है

मयंक अवस्थी ( 8765213905)

Advertisements

24 comments on “T-30/5 उसने आवाज़ छुपाने का हुनर सीख लिया.. मयंक अवस्थी

  1. उसने आवाज़ छुपाने का हुनर सीख लिया
    उसने आवाज़ में आवाज़ मिलाई हुई है

    ये शे’र हमेशा के लिये ज़ेह्न में क़ैद हो गया है…क्या ही कहने.

    कमाल ! कमाल !! कमाल !!!

    मयंक भाई…ढेरों दाद क़ुबूल कीजिये.

  2. भई वाह मयंक sir

    लफ्ज़ की तरही महफ़िल का इंतज़ार रहता है कि आपकी ग़ज़ल पढ़ने को मिलेगी.
    हमेशा की तरह लाजवाब ग़ज़ल हुई। दिल खुश हो गया

  3. जनाब मयंक अवस्थी जी,मुंफ़रिद लब-ओ-लहजे में बहुत ही शानदार और मुरस्सा ग़ज़ल से नवाज़ा है आपने,शैर दर शैर दाद के साथ मुबारकबाद क़ुबूल फ़रमाऐं ।

  4. उसने आवाज़ छुपाने का हुनर सीख लिया
    उसने आवाज़ में आवाज़ मिलाई हुई है

    आपकी सुन के ग़ज़ल इल्म हमें होता है
    कल जो अपनी थी वही आज पराई हुई है

    मुझ से ख़ुदकुश को भी मजबूर करे जीने पर
    “एक शै ऐसी मिरी जाँ मे समाई हुई है”…

    वाह जनाब मयंक अवस्थी सर कमाल के अशआर हुए हैं, दाद ओ मुबारक़बाद कुबूल फरमाएँ

  5. मैं बगूला था, न होता, वही बेहतर होता
    मेरे होने ने मुझे धूल चटाई हुई है

    ज़लज़ला आये तो उस घर का बिखरना तय है
    जिसकी बुनियाद हवाओं ने हिलाई हुई है
    Wahhhhhhh dada
    Lajawab gazal
    Dili daad qubul kijiye

  6. Wah .. Mayank Awasthi ji bohot hi khubsurat gazal hai ..

    उसने आवाज़ छुपाने का हुनर सीख लिया
    उसने आवाज़ में आवाज़ मिलाई हुई है

    is sher per jitni daad di jaye kam hai .. Mubarakbad qubool karen

  7. पुरलुत्फ! लगभग हर शे’र मानाखेज़! दिली दाद सर!

  8. बाल उलझे हुये दाढी भी बढाई हुई है
    तेरे चेहरे पे घटा हिज्र की छाई हुई है
    kya naye andaaz ka matla kaha hai mayank sahab aapne… maza de raha hai…

    उसने आवाज़ छुपाने का हुनर सीख लिया
    उसने आवाज़ में आवाज़ मिलाई हुई है
    kya naya zaviya hai… wah…

    मेरी पहचान मिटाई है मेरे अपनो ने
    मेरी तस्वीर रकीबों की बनाई हुई है
    wah wah wah…

    अब तो तू जैसे नचायेगा मुझे, नाचूँगा
    मेरी कश्ती तेरे ग़िर्दाब में आई हुई है
    wah wah wah…

    mayank sahab baut umda ghazal aur ye ashaar meri pasand ke… Mubarakbaad

  9. उसने आवाज़ छुपाने का हुनर सीख लिया
    उसने आवाज़ में आवाज़ मिलाई हुई है

    अब तो तू जैसे नचायेगा मुझे, नाचूँगा
    मेरी कश्ती तेरे ग़िर्दाब में आई हुई है
    वाह वाह मयंक भाई बहुत उम्दा ग़ज़ल हुई है ।
    बधाई
    सादर

  10. अहा क्या ही ख़ूबसूरत मुहावरेदार शेर कहे। ये तीन शेर हासिले-ग़ज़ल हैं ढेर सारी दाद। वाह वाह

    मैं बगूला था, न होता, वही बेहतर होता
    मेरे होने ने मुझे धूल चटाई हुई है

    मेरी पहचान मिटाई है मेरे अपनों ने
    मेरी तस्वीर रक़ीबों की बनाई हुई है

    अब तो तू जैसे नचायेगा मुझे, नाचूँगा
    मेरी कश्ती तेरे ग़िर्दाब में आई हुई है

  11. Mayank sb shaandaar Ghazal hui hai bahut badhai daad Hi daad

  12. Kya hi umda gazal hui hai bhaiya
    Waah waah wahh

    Sadar
    Alok

Your Opinion is counted, please express yourself about this post. If not a registered member, only type your name in the space provided below comment box - do not type ur email id or web address.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: