16 टिप्पणियाँ

ग़ज़ल–मेरी मिट्टी से नमी खत्म नहीं हो सकती –मयंक अवस्थी

ज़िंदगी तेरे हंसी ख्बाब मे खोया हूँ मैं
आंख खोले हूँ मगर अस्ल में सोया हूँ मैं

जबसे महबूब की महफिल में कदम रक्खा है
जो नहीं हूँ, मुझे लगता है, वो गोया हूँ मैं

मेरी मिट्टी से नमी खत्म नहीं हो सकती
ऐसी इक दर्द की बारिश का भिगोया हूँ मैं

किसको मालूम समंदर है मेरे सहरा में
ख़ुश्क आँखों से तेरी याद मे रोया हूँ मैं

साँप हूँ , तन पे सफेदी भी लगा रक्खी है
सब समझते हैं मुझे दूध का धोया हूँ मैं

शेख !! बस राहे सदाकत से ये पूछो जाकर
तुम किसी तौर मुसलमान भी हो ! या हूँ मैं

तू भी नाकर्दा गुनाहों में मेरे शामिल है
सारे ख्वाबों में तेरे साथ ही सोया हूँ मैं

मयंक अवस्थी (8765213905

Advertisements

16 comments on “ग़ज़ल–मेरी मिट्टी से नमी खत्म नहीं हो सकती –मयंक अवस्थी

  1. मयंक भाई,
    क्या कहूं…
    बेहद ख़ूबसूरत ग़ज़ल..कमाल कमाल और कमाल..

  2. Mayank Sahab… kya achchi ghazal post ki aapne… baqi ashaar to aapke makhsoos andaaz mein hain… achche hain… lekin ye sher to kamaal ka kah diya hai aapne… wah wah kya tajassus hai…
    शेख !! बस राहे सदाकत से ये पूछो जाकर
    तुम किसी तौर मुसलमान भी हो ! या हूँ मैं
    aur ye sher bhi bada maza de raha hai… nakarda gunahon ka kya jawaaz nikal ke aya hai… wah…

    तू भी नाकर्दा गुनाहों में मेरे शामिल है
    सारे ख्वाबों में तेरे साथ ही सोया हूँ मैं

    • Nazim naqvi sahib !! tahe dil se shukraguzar hun !! 114 soorat aur 6666 aayton me jo kaha gaya hai usko manane wale kitane hain ??!!
      Hazarat ali se riwayat ki gai hadees ki bat karate hain !! —
      ***Jo sarqash ise cherega allah usaki kamar tod dega .
      Jo is ko ched kar kisi aur hidayat ko apana zareeya banayega use allah gumrah karega .
      Usake hote na to desires gumrah karati hain na zubaan ladakhdati hai aur gyanwan ka dil isasko padhane kabhi nahin bharata .
      Jisne iski sanad par haan kaha aur isapar amal kiya wo hi rahe sadaqat ka rahnuma hai !!**
      Maine tazindagi dekha hai ki religion koi bhi ho –farebi aur chatur log ise apani duniyavi zarooraton ka zareeya bana lete hain !!
      Agar QORAAN PAK ki hidayaton par amal ki baat hai to main yaqeenan so called zahidon se behatar nikaloonga !!
      APAKA TAHE DIL SE SHUKRAGUZAR HUN KI APNE IS SHER KI TAH ME UTAR KUR ISE PASAND KIYA –YE SHER MERE EEMAAN KA SCHCHA MEYAAR BHI HAI !! BAHUT BAHUT AABHAAR APAKA .
      Naqarda Gunahon ka tasvvur ustad Ghalb se borrow kiya hai –is sher aur is ghazal par apake comment ke liye bhi bahut bahut aabhaar –regards –Mayank

  3. जबसे महबूब की महफिल में कदम रक्खा है
    जो नहीं हूँ, मुझे लगता है, वो गोया हूँ मैं

    किसको मालूम समंदर है मेरे सहरा में
    ख़ुश्क आँखों से तेरी याद मे रोया हूँ मैं

    क्या अंदाज़ है, क्या ज़बान है…
    बहुत खूबसूरत !!!

  4. kya kahe bhaiya bhaiya…,bahot achhii gazal hai ..dili daad qubuul keejiye
    gazal tak pahunchne me thodi der ho gayi …,so muaafi chahuuga

    sadar
    Alok

  5. वाह वाह, क्या शानदार ग़ज़ल हुई है..मुबारक़बाद
    -राहुल ‘राज’

  6. Bahut umda ghazal…matla laajawab…ishq-e-haqiqi ka rang…waah waah…khusk aankhon se teri yaad me roya hun mai…waah…

  7. मेरी मिट्टी से नमी खत्म नहीं हो सकती
    ऐसी इक दर्द की बारिश का भिगोया हूँ मैं

    किसको मालूम समंदर है मेरे सहरा में
    ख़ुश्क आँखों से तेरी याद मे रोया हूँ मैं

    साँप हूँ , तन पे सफेदी भी लगा रक्खी है
    सब समझते हैं मुझे दूध का धोया हूँ मैं
    Wahhhhhhh dada lajawab ghazal hui
    Dili daad qubul kijiye

Your Opinion is counted, please express yourself about this post. If not a registered member, only type your name in the space provided below comment box - do not type ur email id or web address.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: