17 Comments

T-29/48 राहबर कैसा तू मिला है मुझे-शाहिद हसन ‘शाहिद’

राहबर कैसा तू मिला है मुझे
जाने किस सम्त ले चला है मुझे

लफ़्ज़ लफ़्ज़ उसने जो कहा है मुझे
अपने दिल पर रकम मिला है मुझे

आँसुओं की ज़बाँ भी होती है
तुम से मिलकर पता चला है मुझे

दोस्त को कैसे मान लूँ दुश्मन
अपनी नज़रों ही से गिला है मुझे

रखता है मेरी रूह को रौशन
दिल चराग़े-वफ़ा मिला है मुझे

मैं अगर सच कहूं तो लुत्फ़े-वस्ल
इक तिरे हिज्र में मिला है मुझे

मेरे नन्हे से पोते ने ‘शाहिद’
फिर से बच्चा बना दिया है मुझे

शाहिद हसन ‘शाहिद’ 9759698300

Advertisements

About Lafz Admin

Lafzgroup.com

17 comments on “T-29/48 राहबर कैसा तू मिला है मुझे-शाहिद हसन ‘शाहिद’

  1. भाई ज़बान का क्या अच्छा शेर कहा। वाह वाह दाद क़ुबूल फ़रमाइये

    आँसुओं की ज़बाँ भी होती है
    तुम से मिलकर पता चला है मुझे

  2. उम्दा ग़ज़ल है शाहिद साहब |
    हर शेर फ़िक्र से कहा हुआ है |

    लफ़्ज़ लफ़्ज़ उसने जो कहा है मुझे
    अपने दिल पर रकम मिला है मुझे

    आँसुओं की ज़बाँ भी होती है
    तुम से मिलकर पता चला है मुझे

    खुबसूरत ग़ज़ल की दाद कुबूल कीजिये |

  3. Achchi gazal hui hae shahid sahab..
    Daad quboolein
    Sadar
    Pooja

  4. लाजवाब ग़ज़ल हुई है शाहिद जी।
    मक़ते के तो कहने ही क्या …वाह वाह

  5. Mayank saheb, apka jaisa shayri men dakhl aur paini nazar khuda ki nawazish hai. Bahut lutf ata hai apki sheron par tashreeh padh kar. Agar yun kaha jaye ki shair ka kalam Mayank saheb ki nazar beeni se guzarna hi chahiye. Bahut shukriya

  6. BAHUT achi gazal hui sir
    Dili daad qubul kijiye

  7. Bahut khoob janaab

  8. kya khoob gazal hui shahid sahab waah waahh
    dili daad

    sadar
    Alok

  9. Shaahid ji… Bahut achhi Ghazal hui hai… waah…

    Daad Haazir hai

  10. राहबर कैसा तू मिला है मुझे
    जाने किस सम्त ले चला है मुझे
    falaq hai surkh magar aaftaab kala hai
    andhera hai ki mere shahar me ujala hai ??!!
    shaid sahib !! rahabar lufz to khair shairi ka pasndeeda lufz tha hi kyonki -iske maani shiron ne hi sabse ziyada explore kiye -lekin daure hazir ke rahabaron par to baat kurne ka bhi maan nahin hota !!

    लफ़्ज़ लफ़्ज़ उसने जो कहा है मुझे
    अपने दिल पर रकम मिला है मुझे
    Someone very very near and dear to you !!!

    आँसुओं की ज़बाँ भी होती है
    तुम से मिलकर पता चला है मुझे
    Ansuon ki zubaan ka poora spectrum hai -zabt kiya hua ashq –palakon par thehara ashq- aur ek wo bhi ki –
    shaq na kur meri khushq aankhon par
    yun bhi aansoo bahaye jaate hain

    दोस्त को कैसे मान लूँ दुश्मन
    अपनी नज़रों ही से गिला है मुझे
    bahut khoob wah wah !!!
    Giri hai jispe kul bijli wo mera aashiyaan kyon ho me -jo baat wo mera aashiyaan kyon ho me hai wahi baat is sher me bhi hai wah shaid shab bahut khoob !! Itna gehara rabt hai ki dost ki saazish par yaqeen nahin kiya khud ko dosh diya !! waise ek mashwara —
    Kaun dushman hai khabar dost ko lagane mat do
    Dost dushman ki kameegaah bhi ho jata hai
    रखता है मेरी रूह को रौशन
    दिल चराग़े-वफ़ा मिला है मुझे
    nayapan hai sher me -saani misra bahut umda hai !!!

    मैं अगर सच कहूं तो लुत्फ़े-वस्ल
    इक तिरे हिज्र में मिला है मुझे
    dard hud se guzar chukka hai zahir hai wah wah !!!

    मेरे नन्हे से पोते ने ‘शाहिद’
    फिर से बच्चा बना दिया है मुझे
    Very individual but very aappealing !!
    Shahid hasan shahid sahib !! bahut khoob Mubarakbaad qubool kijiye –mayank

Your Opinion is counted, please express yourself about this post. If not a registered member, only type your name in the space provided below comment box - do not type ur email id or web address.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: