15 टिप्पणियाँ

T-29/46 इश्क़ ने क्या बना दिया है मुझे-दिनेश नायडू

इश्क़ ने क्या बना दिया है मुझे
शहर का शहर ढूंढता है मुझे

मैं उसी अक्स का मुसव्विर हूँ
जिसने बेरंग कर दिया है मुझे

हार की आह बन चुका हूँ मैं
फिर भी वो गुनगुना रहा है मुझे

उसकी यादों ने नज़्म की सूरत
रेगज़ारों पे लिख दिया है मुझे

अब मैं इस जिस्म में नहीं रहता
कौन आवाज़ दे रहा है मुझे

मुझको लगता है आसमानों से
ग़ौर से कोई देखता है मुझे

ज़िन्दगी का ये तेज़रौ लम्हा
जाने कैसे गुज़ारता है मुझे

क्या कोई है यहाँ जो ज़िंदा है
शहर का मौन चुभ रहा है मुझे

गहरे पानी में डूब जाऊंगा
शब का दरिया पुकारता है मुझे

नींद का शोर, रात की चुप्पी
क्या किसी ख़ाब की सदा है मुझे

क़ैस का क्या हुआ था सहरा में
‘अपने अंजाम का पता है मुझे’

दिनेश नायडू 09303985412

Advertisements

About Lafz Admin

Lafzgroup.com

15 comments on “T-29/46 इश्क़ ने क्या बना दिया है मुझे-दिनेश नायडू

  1. wah wah wah… Dinesh shahab… kya ghazal kahi hai aapne… har sher dilchasp… haar kar aah ban chuka hun main… phir bhi wo gunguna raha hai mujhe… kya baat hai… wah…

  2. इश्क़ ने क्या बना दिया है मुझे
    शहर का शहर ढूंढता है मुझे

    मैं उसी अक्स का मुसव्विर हूँ
    जिसने बेरंग कर दिया है मुझे

    अब मैं इस जिस्म में नहीं रहता
    कौन आवाज़ दे रहा है मुझे

    नींद का शोर, रात की चुप्पी
    क्या किसी ख़ाब की सदा है मुझे

    दिनेश जी सभी शेर एक से बढ़ कर एक. खुबसूरत ग़ज़ल|
    ढेरों दाद हाजिर हैं |

  3. वाह वाह दिनेश। बहुत अच्छी ग़ज़ल कही। मैं चाहता था कि ग़ज़ल से कुछ शेर चुन कर बात करूँ मगर एक के बाद एक हर शेर दिल में उतरता ही चला गया। गिरह भी जो मैंने अपनी ग़ज़ल में कही थी लगभग धर-दबोची। हर शेर अच्छा, हर शेर पुख़्ता। जीते रहिये। यही वो मुक़ाम है जहाँ शागिर्द के बारे में उस्ताद सोचने लगते हैं कि अब फ़ारिग़ुल-इस्लाह होने की मंज़िल आ रही है। जल्दी से रफ़्तार पकड़िये और सुर्ख़रू होइये और सुर्ख़रू कीजिये।

  4. Ahaa…bahut umda gazal dinesh ji… dheron mubaarakbaad
    Sadar
    Pooja

  5. अच्छी ग़ज़ल हुई है दिनेश साहब।
    गिरह कमाल की लगाई है .

  6. नींद का शोर, रात की चुप्पी
    क्या किसी ख़ाब की सदा है मुझे
    Dinesh saheb, umda ghazal. mubarakbad

  7. अब मैं इस जिस्म में नहीं रहता
    कौन आवाज़ दे रहा है मुझे

    मुझको लगता है आसमानों से
    ग़ौर से कोई देखता है मुझे

    ज़िन्दगी का ये तेज़रौ लम्हा
    जाने कैसे गुज़ारता है मुझे
    Bahut pyari gazal hui bhaia
    Dili daad qubul kijiye

  8. Dinesh sahab behtareen Ghazal Badhaayi

  9. इश्क़ ने क्या बना दिया है मुझे
    शहर का शहर ढूंढता है मुझे
    उसकी यादों ने नज़्म की सूरत
    रेगज़ारों पे लिख दिया है मुझे
    क़ैस का क्या हुआ था सहरा में
    ‘अपने अंजाम का पता है मुझे’
    Ye teeno sher ek hi Canvass ke hain !! Qais -regzaar- lapata _ sabhi sheron par daad hazir hai Dinesh bhai -main bhi haath me patthar le kur apako talaash raha hun !! Ha ha …

    मैं उसी अक्स का मुसव्विर हूँ
    जिसने बेरंग कर दिया है मुझे
    meaning mujhe unclear hai .. shayad ye ki my creation has dominated me -naqsh musavvir se bada ho gaya hai –jaise takhallus original naam ko peechhe kur deta hai –

    अब मैं इस जिस्म में नहीं रहता
    कौन आवाज़ दे रहा है मुझे
    wah wah !!
    main kho gaya hun tere khwaab ke taaaqub me
    bus ek jism mera aakhiri hawala hai

    मुझको लगता है आसमानों से
    ग़ौर से कोई देखता है मुझे
    Sab jagah aajaakaul CCTV hai !! aasmanon me bhi kratrim upagrah hain –isliye baat bilkul sach hai -andesha ghalat nahin hai haa ha …. Chuhul apani jagah –lekin kainat ke maalik ko hazaar shrot sir aankhon aur kaan wala hum taslem karate hain isliye hume hurwaqt koi dekhata hai -wahi jisne hume banaya hai wahi

    क्या कोई है यहाँ जो ज़िंदा है
    शहर का मौन चुभ रहा है मुझे
    hur shahar ab mazaron ka shahar hai –humzubaan koi nahin milta …

    गहरे पानी में डूब जाऊंगा
    शब का दरिया पुकारता है मुझे
    shab ka dariya — great symbol for death –wah wha wah !! Is manzar me pasmanzar se sooraj ka bayan liya gaya hai -arooz par bahut umda sher kaha hai !!

    Dinesh bhai bahut khoob dher saari daaad is ghazal ke lliye –mayank

    • Haha… Mayankji Hazrate Shakeb ka ek sher yaad aa gaya …

      Aa ke patthar to mere Sehn mein do- chaar gire,
      jitne us ped ke phal they pase -deewaar gire….

      Mayankji.. Mujhe maloom hai … aapke patthar bhi mere liye dua ban kar hi barsenge..

      मैं उसी अक्स का मुसव्विर हूँ
      जिसने बेरंग कर दिया है मुझे

      Ye aapki fikr ki bulandi hai jo aapne is saadharan se sher se itna gehra mafhoom nikal liya… Maine to ek seedha seedha khayal baandha tha…

      ” I paint the picture of that spitting image from my memories, which has taken all the colors from my life ”

      Aapko ghazal achhi lagi… ye meri khushkismati hai…

      Bahut bahut shukria,

      Aapka,

      Dinesh

      • Dinesh bhai !! salamat rahein !! patthar le kur isliye ki Qais par bhi paththar fenke jate the – and He had finished himself in search of his soul (Laila) . You too are deeply engaged in your creation . Your commitment for your ghazal is at par with the commitment of Qais with Laila .
        Main usi Aqsa ka musavvir hun .. ke meaning really straightforward hain aur jaisa apane kaha waise hi convey ho rahe hain –lekin bahut sare sher padhane ke karan ya preoccupied mindsetup ke karan maine gaur nahin kiya ki aqsa lufz ko -hafize ke karan istemaal kiya gaya hai –I,was expecting ” naqsh” here –lekin aqsa hi behatar aur mufeed hai !! bahut bahut shukriya –mayank

  10. Achche Sher achchi Ghazal wah wah kya kahne umda

  11. Dinesh bhai tamaam gazal hi niyahayt khoobsoorat magar aapne girah kamaal ki lagaayii…
    kya kah.n aur kahne ko kya rah gaya…ak ak sher heera hai ..!!1

    zindabad zindabad

    Alok

Your Opinion is counted, please express yourself about this post. If not a registered member, only type your name in the space provided below comment box - do not type ur email id or web address.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: