15 टिप्पणियाँ

T-29/7 आरिज़ा लादवा हुआ है मुझे-“शाज़” जहानी

आरिज़ा लादवा हुआ है मुझे
इसका इर्फ़ान हो चुका है मुझे

इसका दर्मां नहीं, मैं बस इतना
जानना चाहता हूँ क्या है मुझे

है तो इक्सीर ख़ूब ये , लेकिन
आज़माई तो नारसा है मुझे

मैं हूँ मम्नून चारागर, पर अब
हाजते-रह्मे-किब्रिया है मुझे

सिर्फ़ दो गज़ ज़मीं ख़रीदी है
“अपने अंजाम का पता है मुझे”

देर तक ख़ुश कभी न रह पाया
दुश्मने-जाँ ये हाफ़िज़ा है मुझे

होश में हूँ अभी, कहूँ कैसे
साक़िया, तुझ से कुछ गिला है मुझे

जब हूँ बेबालो-पर, शिकस्तःपा
आसमाँ दे रहा सला है मुझे

अब ख़िरद हो चली है फित्नाख़ू
पर जुनूँ है कि रोकता है मुझे

दौर था एक वो कि ख़ल्वत में
आइने ने बहुत तका है मुझे

मोल ले ली तिरी अदावत है
कोई है जिसका आसरा है मुझे

तू कहीं आस पास है शायद
मुश्क सी लग रही फ़ज़ा है मुझे

दिल है खोया तो तुझ को पाया है
इस ज़ियाँ में तो फ़ायदा है मुझे

हो गया है ये क्या ज़माने को
फ़ख़्र से आज देखता है मुझे

यार, कुछ ख़ौफ़ रख ख़ुदा का भी
“शाज़” के साथ तोलता है मुझे ?

आलोक कुमार श्रीवास्तव “शाज़” जहानी 09350027775

Advertisements

About Lafz Admin

Lafzgroup.com

15 comments on “T-29/7 आरिज़ा लादवा हुआ है मुझे-“शाज़” जहानी

  1. सिर्फ़ दो गज़ ज़मीं ख़रीदी है
    “अपने अंजाम का पता है मुझे

    अहा क्या गिरह बाँधी है वाह

    तमाम ग़ज़ल उम्दा है

  2. Girah khoob lagayi hai aapney….
    “sirf do gaj zameen khareedi hai”

    bohot khoob gazal huyi hai…dhero daad!!

  3. wah wah waaaaaaaaaaaaaaaah umda ghazal se nawaza aapne.

  4. आरिज़ा लादवा हुआ है मुझे
    इसका इर्फ़ान हो चुका है मुझे
    इसका दर्मां नहीं, मैं बस इतना
    जानना चाहता हूँ क्या है मुझे
    Oopar ke dono sher me aariza –muhabbat hai aur jiska darman nahin wo bhi muhabbat hai !!!
    है तो इक्सीर ख़ूब ये , लेकिन
    आज़माई तो नारसा है मुझे
    Ikseer ka koi naam bhi hoga – jise azamaya!! kyonki muhabbat ke bare me to ghalib ne kaha hi hai ki – lo hum mareez e ishq ke teemardar hain //achcha agar na ho to maseeha ka kya ilaaj!!
    मैं हूँ मम्नून चारागर, पर अब
    हाजते-रह्मे-किब्रिया है मुझे
    Hindi filmo ka doctor ka pet jumla – ab to bhagawan par hi sab kuchh hai !!
    सिर्फ़ दो गज़ ज़मीं ख़रीदी है
    “अपने अंजाम का पता है मुझे”
    Wah wah wah wha !! wah wah !! ye pahala sher hai jisame Lughat ki zaroorat nahin padi !!
    देर तक ख़ुश कभी न रह पाया
    दुश्मने-जाँ ये हाफ़िज़ा है मुझे
    Jadoonagari hai ye pyare aawazon par dhyaan na do
    Peechhe mud kur dekhane wala paththar ka ho jata hai – qateel
    Peechhe mud kar dekhana hafize ka shikar hona hi hai !!!
    होश में हूँ अभी, कहूँ कैसे
    साक़िया, तुझ से कुछ गिला है मुझे
    Saqi ka lihaz zaroori hai !! sabki saqi pe nazar ho ye zaroori hai magar //sab pe saqi ki nazar ho ye zaroori to nahin !! saqi hi saanse pila raha hai !!
    जब हूँ बेबालो-पर, शिकस्तःपा
    आसमाँ दे रहा सदा है मुझे
    Apane hi podene mirche sookh gaye
    Warna duniya mash kid al to ab bhi hai –basheer
    अब ख़िरद हो चली है फित्नाख़ू
    पर जुनूँ है कि रोकता है मुझे
    Khoob ulatbaansi hai !!! wah !!
    दौर था एक वो कि ख़ल्वत में
    आइने ने बहुत तका है मुझे
    Baap Re !!! Fir ??!! Hum to mar gaye hote ya sangabari karate !!
    दिल है खोया तो तुझ को पाया है
    इस ज़ियाँ में तो फ़ायदा है मुझे
    Aap is dil ko bade shauq se lootein sahib
    Ye khasaara hame jageer nazar aata hai -mayank
    यार, कुछ ख़ौफ़ रख ख़ुदा का भी
    “शाज़” के साथ तोलता है मुझे ?

    No doubt !! meezaan toot hi jana hai !!
    Shaaz !! sahib bahut naye bahut umda sher kahe –bahut bahut badhai —mayank

  5. सिर्फ़ दो गज़ ज़मीं ख़रीदी है
    “अपने अंजाम का पता है मुझे”
    kya kehne…behad umdaa ghazal..daad qubule’n

  6. ग़ज़ल तो अपनी जगह मगर गिरह बला की हुई। वाह वाह शाज़ साहब वाह वाह

    सिर्फ़ दो गज़ ज़मीं ख़रीदी है
    “अपने अंजाम का पता है मुझे”

Your Opinion is counted, please express yourself about this post. If not a registered member, only type your name in the space provided below comment box - do not type ur email id or web address.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: