6 Comments

T-28/35 बहुत रो के आये रुला कर चले-ज़ुल्फ़िकार’आदिल’

मित्रो, तरही-28 की इब्तिदा में ही क़ैद रखी थी कि एक ज़मीन में एक ही ग़ज़ल पोस्ट की जायेगी। ज़ुल्फ़िक़ार आदिल साहब पाकिस्तान के शायर हैं और हिंदी नहीं जानते। नतीजतन वो पढ़ ही नहीं सकते थे और उनके पास कोई ज़रीया ही नहीं था कि जान पाएं कि किस किस ज़मीन में काम हो चुका है। मेरा निवेदन है कि उन्हें इस सिलसिले में छूट मिलनी चाहिये।

हज़रते-मीर तक़ी मीर की ग़ज़ल जिस ज़मीन को तरह किया गया

फ़क़ीराना आए सदा कर चले
मियां ख़ुश रहो हम दुआ कर चले

जो तुझ बिन न जीने को कहते थे हम
सो उस अहद को अब वफ़ा कर चले

वो क्या चीज़ है आह जिसके लिये
हर इक चीज़ से दिल उठा कर चले

बहुत आरज़ू थी गली की तेरी
सो याँ से लहू में नहा कर चले

परस्तिश की याँ तक कि ऐ बुत तुझे
नज़र में सभों की खुदा कर चले

कहें क्या जो पूछे कोई हमसे ‘मीर’
जहाँ में तुम आए थे क्या कर चले

—————————————–

पाकिस्तानी शायर ज़ुल्फ़िक़ार आदिल साहब की तरही ग़ज़ल

बहुत रो के आये रुला कर चले
”मियां ख़ुश रहो हम दुआ कर चले”

हमें एक हसरत ही मालूम थी
उसी से ये शम्में जल कर चले

बयाबाँ में यां इक गली सोच कर
हम इक शहर की इब्तिदा कर चले

तिरा आसमाँ अब किसी का भी हो
हम अपने सितारे बुझा कर चले

ज़ुल्फ़िकार’आदिल’ 00923458131278, 00923101143380, 00923343701401

Advertisements

About Lafz Admin

Lafzgroup.com

6 comments on “T-28/35 बहुत रो के आये रुला कर चले-ज़ुल्फ़िकार’आदिल’

  1. तिरा आसमाँ अब किसी का भी हो
    हम अपने सितारे बुझा कर चले
    पाकिस्तानी शायर ज़ुल्फ़िक़ार आदिल साहब की तरही ग़ज़ल पर दाद !!

  2. Adil saheb, bahut hi umda ashaar k liye mubarakbad qubool farmayen
    TERA ASMA(N) AB KISI KA BHI HO ++ HAM APNE SITARE BUJHA KAR CHALE.

    Waaaaaaaaaaaaaaah

  3. बयाबाँ में यां इक गली सोच कर
    हम इक शहर की इब्तिदा कर चले

    तिरा आसमाँ अब किसी का भी हो
    हम अपने सितारे बुझा कर चले

    Kya hi umda ash’aar heiN!! Dili daad mohtaram!!

  4. तिरा आसमाँ अब किसी का भी हो
    हम अपने सितारे बुझा कर चले
    वाह… क्या कहने हैं आदिल साहब.. ख़ूब
    दाद हाज़िर है
    सादर
    पूजा

  5. बहुत उम्दा, आदरणीय Tufail Chaturvedi भाईसहाब | मेरी गुज़ारिश है मेरे पिताजी बहुत शौकीन है कविता, नज्म, गजल एवं शेरों शायरी के में चाहता हूँ मेरे पिताजी की नज्में कविता गजल आप अपने ग्रुप में सामिल करने की अनुमति दिजीए कृपया |

Your Opinion is counted, please express yourself about this post. If not a registered member, only type your name in the space provided below comment box - do not type ur email id or web address.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: