8 टिप्पणियाँ

T-27/11 तअल्लुक़ात के बेसूद छल को जारी रख-मुमताज़ नाज़ां

तअल्लुक़ात के बेसूद छल को जारी रख
मुहब्बतें न सही, थोड़ी ग़मगुसारी रख

थकान लाख तेरे पाँव थामना चाहे
तू अपने दिल पे सफ़र का जूनून तारी रख

मुनाफ़िक़ों से भी मिल बहरे-मसलहत लेकिन
दिल आसमान के जैसा, नज़र शिकारी रख

तमाज़तें तो मेहर की भी रह नहीं जातीं
हो सर बलंद मगर फिर भी इंकिसारी रख

हक़ीक़तों का है फ़ुक़दान, झूट ही कह दे
प बात सच लगे बस इतनी होशियारी रख

फ़साने लाख तेरी बेबसी से निकलेंगे
‘छुपा के यार तबस्सुम में बेक़रारी रख’

अगर उजालों में “मुमताज़” तुझ को रहना है
तो फिर उभरते हुए शम्स से तू यारी रख

मुमताज़ नाज़ां 09867641102

Advertisements

About Lafz Admin

Lafzgroup.com

8 comments on “T-27/11 तअल्लुक़ात के बेसूद छल को जारी रख-मुमताज़ नाज़ां

  1. Achchhi Ghazal hui hai Mumtaaz Naazaa’n sahiba
    khaas kar ye sher
    Thakaan laakh tere Paao’n thaamna chaahe
    Tu apne dil pe safar ka junoon taari rakh
    bahut bahut MUBAARAK BAAD
    shafique raipuri

  2. वाह मुमताज़ जी लाज़वाब ग़ज़ल मुबारकबाद कबूल करे

  3. मुमताज़ जी,
    बहुत मुबारक इस ख़ूबसूरत ग़ज़ल के लिये.

  4. तमाज़तें तो मेहर की भी रह नहीं जातीं
    हो सर बलंद मगर फिर भी इंकिसारी रख

    बहुत ख़ूब मुमताज़ आपा.

    शाज़ जहानी

  5. Mumtaz Saheba, bohot umda gazal huyi hai! Daad kubool farmayein!!

  6. Mumtaz Saheba, Bohot umda gazal huyi hai! Daad kubool farmayein!

    Fazle Abbas Saify

  7. मोह्तरमा मुमताज़ साहिबा आपकी इस ग़ज़ल के हर शे’र ने मुतास्सिर किया है दिली दाद ओ मुबारक़बाद कुबूल फ़रमायें

  8. अनमोल पोस्‍ट

    आपका ब्‍लाग हमारे ब्‍लॉग संकलन पर संकलित किया गया है। अापसे अनुरोध है कि एक बार हमारे ब्‍लॉग संकलन पर अवश्‍य पधारे। आपके सुझाव व शिकायत अामंत्रित हैं।

    http://www.blogmetro.in

Your Opinion is counted, please express yourself about this post. If not a registered member, only type your name in the space provided below comment box - do not type ur email id or web address.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: