8 Comments

ग़ज़ल:- इक हरे ख़त में कोई बात पुरानी पढ़ना-दिनेश नायडू

इक हरे ख़त में कोई बात पुरानी पढ़ना
कितना मुश्किल है किसी आँख का पानी पढ़ना

कुछ न कुछ सोचना बस सोचना यूँ ही दिन भर
और फिर रात में परियों की कहानी पढ़ना

एक ही चेहरे की बौछार है क़िस्सा अपना
मेरी आँखों से इसे दुश्मने-जानी पढ़ना

कूद जाना तिरी यादों के समंदर में फिर
डूबते डूबते मौजों की रवानी पढ़ना

आखिरी बार मुझे देखना जाते जाते
सूखी आँखों से मिरा सैले-मआनी पढ़ना

मैंने इक दौर का सावन है किया नज़्म यहाँ
तू कभी आ के मिरी आँखों का पानी पढ़ना

दिनेश नायडू 09303985412

Advertisements

About Lafz Admin

Lafzgroup.com

8 comments on “ग़ज़ल:- इक हरे ख़त में कोई बात पुरानी पढ़ना-दिनेश नायडू

  1. Dinesh…. kamaal ki ghazal hai… saare sher umda hue hain… infact ab ye umeed jag gayi hai ke tum kahoge to umda hi kahoge… jio….

  2. क्या कहने दिनेश भाई..
    कमाल की ग़ज़ल.

  3. मैंने इक दौर का सावन है किया नज़्म यहाँ
    तू कभी आ के मिरी आँखों का पानी पढ़ना
    Bahut achi gazal hui bhaia
    dili daad qubul kijiye
    sadar
    imran

  4. Bala ki khoobsoorat gazal hui hai dinesh bhai ….Matla padh kar to Man bheeg gaya hai …sbhi ash-aar nihayat hi khoobsoorat huye hain…

    zindabad bhai zindabad

Your Opinion is counted, please express yourself about this post. If not a registered member, only type your name in the space provided below comment box - do not type ur email id or web address.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: