5 टिप्पणियाँ

ग़ज़ल:- ज़िन्दगी का हिसाब करने में -स्वप्निल तिवारी ‘आतिश’

ज़िन्दगी का हिसाब करने में
हो गए ख़ाली क़िस्त भरने में

सतह पर तैरता हूँ बेहरकत
नब्ज़ डूबी मिरी उबरने में

उस ने आवाज़ तो लगायी थी
मैंने ही देर की ठहरने में

खारे आंसू मिला रहा हूँ मैं
तेरी यादों के मीठे झरने में

मैंने सब रंग ख़र्च कर डाले
तेरी ख़ाली जगह को भरने में

तेरा भी नाम खो दिया जानां
मेरी आवाज़ ने बिखरने में

उसने पूछा के आप स्वप्निल हैं?
कितना अच्छा लगा मुकरने में

सीढियां सारी तोड़ डाली हैं
तुमने अंदर मिरे उतरने में

कुछ तो ‘आतिश’ में आंच बाक़ी है
वक़्त लगता है यार मरने में

स्वप्निल तिवारी ‘आतिश’ 08879464730

Advertisements

About Lafz Admin

Lafzgroup.com

5 comments on “ग़ज़ल:- ज़िन्दगी का हिसाब करने में -स्वप्निल तिवारी ‘आतिश’

  1. Swapnil saheb aapki kya achchi ghazal hai… Zabaan aur bayaan ka maza… Mood achcha karne wali ghazal… Mubarak

  2. ज़िन्दगी का हिसाब करने में
    हो गए ख़ाली क़िस्त भरने में

    Kamaal ka Matla hai Bhaiyya… Waah waah… Beintaha Khoobsurat..

    सतह पर तैरता हूँ बेहरकत
    नब्ज़ डूबी मिरी उबरने में

    Nabz doobi meri ubarne mein… Waah waah waah… Kya achha sher hua hai bhaiyya waah waah….

    मैंने सब रंग ख़र्च कर डाले
    तेरी ख़ाली जगह को भरने में

    Haay…. Rang Kharch kar daalna… Khaali jagah ka na bharna…. Kya manzar hai…. Bechain karne waaala sher…

    उसने पूछा के आप स्वप्निल हैं?
    कितना अच्छा लगा मुकरने में

    Bhaiyya aap Swapnil hai…aapki Ghazal aapki shaayri sab Swapnil hai….

    Aur kahaan tak taareef karun… Bahut achhi ghazal hui hai bhaiyya…. Maza aa gaya…

  3. puri gazal nihayat khoobsoorat hui hai bhaiya ..aur ye chaar sher to laazawaab hai.n…

    खारे आंसू मिला रहा हूँ मैं
    तेरी यादों के मीठे झरने में

    मैंने सब रंग ख़र्च कर डाले
    तेरी ख़ाली जगह को भरने में…kya khoob

    उसने पूछा के आप स्वप्निल हैं?
    कितना अच्छा लगा मुकरने में

    सीढियां सारी तोड़ डाली हैं
    तुमने अंदर मिरे उतरने में ….

    kya kahne ..kya kahne

    dili mubaraqbaad

  4. wahhhhhh wahhhhhh waahhhhh.bharpoor . Khoobsoorat. Behtareen. Or shandar gazal hui hae. Kitni sadgi se sher apni baat manwa rahe hain…kamaal
    Dhanywad dada umda gazal kahne ke liye.
    Hardik badhai
    Sadar
    Pooja

Your Opinion is counted, please express yourself about this post. If not a registered member, only type your name in the space provided below comment box - do not type ur email id or web address.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: