11 टिप्पणियाँ

ग़ज़ल:- जब गिरे हम आसमाँ से झूट के-स्वप्निल तिवारी ‘आतिश’

जब गिरे हम आसमाँ से झूट के
खुल न पाए बंद पैराशूट के

जैसे इक पत्ते से क़तरा ओस का
गिर पड़ेगा चाँद इक शब टूट के

अपना ही मेला सजाने लग गए
तुम हमारी उँगलियों से छूट के

एक रस्सी है गले में मेरे और
हाथ में रेशे भरे हैं जूट के

मंज़िलों का दुख नया दुख था इन्हें
रो पड़े छाले हमारे फूट के

नींद की हर शाख़ सूनी ही है अब
गिर चुके हैं ख्व़ाब सारे टूट के

काश वो किरनों से शब भर तंग हो
सो रहा है जो मिरा दिन लूट के

स्वप्निल तिवारी ‘आतिश’ 08879464730

Advertisements

About Lafz Admin

Lafzgroup.com

11 comments on “ग़ज़ल:- जब गिरे हम आसमाँ से झूट के-स्वप्निल तिवारी ‘आतिश’

  1. Parachute ke band ka na khul paana, aasmaaN ke jhoot se girna,Chaand ke kisi shab os ke katre ki tarah toot ke gir jaane ki probability, Jute ke reshon se hath ke bhare hone ka manzar, foot ke pairon ke chhalon ka rano, Neend ki shaakh se khwaabon ka toot jaana, Shab bhar kirano se kisi ko tang kar dena, ….aur aise tamaam similes sirf aur sirf aapki shayari me nazar aate hai…. Ye Swapnil Tiwari ki shaayri hai aur kisi ki nahin…

  2. haay….kya hi umda gazal hui hai bhaiya ..sabhi ash-aar behad pasand aaye aur in teen shero’n ka to jawaab hi nahin…

    अपना ही मेला सजाने लग गए
    तुम हमारी उँगलियों से छूट के

    मंज़िलों का दुख नया दुख था इन्हें
    रो पड़े छाले हमारे फूट के

    नींद की हर शाख़ सूनी ही है अब
    गिर चुके हैं ख्व़ाब सारे टूट के…..ahaaa

    speechless..

    dili mubarqbaad

  3. अपना ही मेला सजाने लग गए
    तुम हमारी उँगलियों से छूट के
    मंज़िलों का दुख नया दुख था इन्हें
    रो पड़े छाले हमारे फूट के
    जैसे इक पत्ते से क़तरा ओस का
    गिर पड़ेगा चाँद इक शब टूट के

    WAhh wahhh
    dada bahut khub
    Sadar

  4. जैसे इक पत्ते से क़तरा ओस का
    गिर पड़ेगा चाँद इक शब टूट के

    Kya kahne hein sir…..kamaal… behad umda….
    Bahut sari… balki sari ki sari daad qubool farmayein.
    Sadar
    Pooja

  5. Wah wah wah… Swapnil saheb… Kya achche ashaar kahe hain aapne… Bafi barjastagi aur rawani ke saath… Mubarak
    nazim naqvi

  6. Subhan Allah…bilkul naya aur dilchasp andaaz-e-bayan hai Bhai…lajawab…

    जब गिरे हम आसमाँ से झूट के
    खुल न पाए बंद पैराशूट के
    Shayri men पैराशूट ka itna adbhut pryog na pehle kabhi padha n suna…kamaal…

    जैसे इक पत्ते से क़तरा ओस का
    गिर पड़ेगा चाँद इक शब टूट के
    Waah waah waah…ye bhi naya pryog hai bhai…jiyo…

    मंज़िलों का दुख नया दुख था इन्हें
    रो पड़े छाले हमारे फूट के
    Aha ha ha …bemisaal…is sher ne man moh liya…Aur fir

    काश वो किरनों से शब भर तंग हो
    सो रहा है जो मिरा दिन लूट के
    Is sher ne to dil loot liya….

    Behtareen Swapnil…is baar tumhari aesi khatirdari karunga ki Khopoli chhodne ka naam hi nahin loge…

Your Opinion is counted, please express yourself about this post. If not a registered member, only type your name in the space provided below comment box - do not type ur email id or web address.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: