2 टिप्पणियाँ

ख्व़ाब के टूटने का डर शायद-इरफ़ान खतौलवी

ख्व़ाब के टूटने का डर शायद
फिर जगायेगा रात भर शायद
Khab ke tootne ka dar shayad
Phir jagaega raat bhar shayad

ज़िन्दगानी में तेरी हम भी थे
सोच कर देख, याद कर, शायद
Zindegani me teri hum bhi the
Soch kar dekh,yaad kar,shayad

सुर्ख डोरे हैं उसकी आँखों में
रोई है वो भी रात भर शायद
Surkh dore he.n uski ankho.n me
Roi he wo bhi raat bhar shayad

आज सासों में कुछ घुटन सी है
ख़त्म होने को है सफ़र शायद
Aaj saso.n me kuchh ghutan see he
Khatm hone ko he safar shayad

इक किरन सी दिखाई देती है
आज हो जायगी सहर शायद
Ek kiran see dikhai deti he
Aaj ho jaygi sahar shayad

अब तो मंजिल की जुस्तजू में हूँ
फिर मिलूं तुझसे लौटकर शायद
Abto manzil ki justjoo me hu.n
Phir milu.n tujhse lautkar shayad

ज़िन्दगी जीने का हुनर ‘इरफ़ान’
हमको आये न उम्रभर शायद
Zindagi jeeneka hunar Irfan
Hamko aae na umr bhar shayad

इरफ़ान खतौलवी

Advertisements

About Lafz Admin

Lafzgroup.com

2 comments on “ख्व़ाब के टूटने का डर शायद-इरफ़ान खतौलवी

  1. ज़िन्दगानी में तेरी हम भी थे
    सोच कर देख, याद कर, शायद

    सुर्ख डोरे हैं उसकी आँखों में
    रोई है वो भी रात भर शायद

    वाह खूब ग़ज़ल कही है सर ,,,,,,,,, लाजवाब ग़ज़ल

  2. अब तो मंजिल की जुस्तजू में हूँ
    फिर मिलूं तुझसे लौटकर शायद

    क्या बात है ये भी अच्छी ग़ज़ल है

Your Opinion is counted, please express yourself about this post. If not a registered member, only type your name in the space provided below comment box - do not type ur email id or web address.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: