10 Comments

T-22/40 ख्वाब डूबा था जिधर,जाना है-योगेश ध्यानी

ख्वाब डूबा था जिधर,जाना है
गाँव के पार, नहर जाना है

ओस ओढ़े हुए है याद तेरी
सोचना तुझको, सिहर जाना है

थक गया तब तुझे दम देते
इसकी आदत में बिखर जाना है

चाह में तेरी भटकते हैं हम
तेरी खुशबू है जिधर, जाना है

शाम में घुलने लगा रात का रंग
सबके लब पर है कि घर जाना है

रास्तों पर है बड़ी भीड़ मगर
बेख़बर सब हैं किधर जाना है

मैने सूरज से कहा और ठहर
वो ये बोला, उसे घर जाना है

इससे बढ़कर है कहाँ सुख कोई
माँ, तेरी गोद में भर जाना है

योगेश ध्यानी 09336889840

Advertisements

About Lafz Admin

Lafzgroup.com

10 comments on “T-22/40 ख्वाब डूबा था जिधर,जाना है-योगेश ध्यानी

  1. योगेश साहब।

    बहुत उम्‍दा।
    आखिर के कुछ शे’र तो बहुत ही कमाल के।
    वाह..वाह..।
    नवनीत

  2. Nakul ji hausla badhane ka bahut shukriya

  3. बहुत सुन्दर ग़ज़ल हुई योगेश
    जी
    सभी शे’र एक से बढ़ कर एक

    ये शे’र बहुत खास लगे…

    ओस ओढ़े हुए है याद तेरी
    सोचना तुझको, सिहर जाना है
    वाह! बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

    रास्तों पर है बड़ी भीड़ मगर
    बेख़बर सब हैं किधर जाना है
    क्या बात है!

  4. tumhara bahut bahut shukriya swapnil,ye jankar aur achcha laga ki pichli gazal se isme behtari hui…………

  5. bahut bahut dhanywad kanha ji

  6. bimlendu ji gazal aap tak pahunchi,jankar achcha laga,aapka bahut bahut shukriya

  7. Gazal aapko pasand aayi .jankar bahut achcha laga.apni raay zahir karne k liye bahut bahut shukriya

  8. ये ग़ज़ल पिछली से बेहतर लगी योगेश… आख़िर के तीन शेर बेहद पसंद आये….

  9. ओस ओढ़े हुए है याद तेरी
    सोचना तुझको, सिहर जाना है…khoob
    -Kanha

  10. ओस ओढ़े हुए है याद तेरी
    सोचना तुझको, सिहर जाना है

    थक गया तब तुझे दम देते
    इसकी आदत में बिखर जाना है

    चाह में तेरी भटकते हैं हम
    तेरी खुशबू है जिधर, जाना है

    शाम में घुलने लगा रात का रंग
    सबके लब पर है कि घर जाना है

    रास्तों पर है बड़ी भीड़ मगर
    बेख़बर सब हैं किधर जाना है

    मैने सूरज से कहा और ठहर
    वो ये बोला, उसे घर जाना है

    इससे बढ़कर है कहाँ सुख कोई
    माँ, तेरी गोद में भर जाना है

    वाह योगेश साहब…सारे शेर बहुत उम्दा हैं….दिल से दाद…

Your Opinion is counted, please express yourself about this post. If not a registered member, only type your name in the space provided below comment box - do not type ur email id or web address.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: