14 टिप्पणियाँ

बधाई नवीन !!!

कहाँ रहे तुम इतने साल
आइने शीशे हो गये –नवीन सी चतुर्वेदी

नवीन भाई को इस शेर पर इसलिये एक बार फिर बधाई क्योंकि इस शेर के मंज़र पर मैने आज एक और शेर सुना है —

शीशा हूँ जिसके परली तरफ ज़ंग है बहुत
दुनिया समझ रही है मगर आइना हूँ मैं (??!!)

शेर खूबसूरत है मगर किस शाइर का है !! ?? मालूम नहीं –बहर कैफ जिसका भी है उस शाइर को बधाई और नवीन जी !! आपके कैनवास को स्वीक्रति मिली इसपर भी बधाई !!! –मयंक

Advertisements

14 comments on “बधाई नवीन !!!

  1. Facebook par Rachit Deekshit k ek comment par clarification

    khush rahiye Rachit . dar-asal yah sher mahaz do misaroN kee daastaan bhar naheeN hai. aap baDe daadaa aa. Tufail Chaturvedi jee kaa yah sher paDhiye

    rawaayatoN kee safeiN TooTatee naheeN sab se.
    ka’ee baras meiN ko’ee ek jaal kaaTataa hai.

    tamaam asaatizaa se milee jaankaaree ke mutaabiq shaayree meiN sheeshe kaa matlab faqat jaam [beear mug] huaa kartaa thaa. yahee reason rahaa ki is sher ko logoN ne bahut der se qubool farmaayaa, aaj bhee tamaam logoN ko clearification denaa paDtaa hai.

    doosaree baat, duration ko define karne kaa yah tareeqaa pahlee baar istemaal meiN aayaa hai. duration ko define karne ke liye jo jumle aam taur par istemaal meiN aate hain un par ek nazar Daaliyegaa

    – subah se shaam ho gayi
    – Dhal gayaa din ho gayi raat
    – bachapan se jawaanee meiN aa gaye
    – garmiyaaN khatm hueeN aur baarish kaa – mausam aa gaya
    – ab to bachche bhee jawaa ho gaye
    – goree chamakeelee kaayaa par jhurriyaaN aa chukee haiN

    etc. etc.

    to is period ko define karne kaa yah tareeqaa different hai. isliye bhee yah sher mere liye special hai.

    teesree baat – jab koi fasion designer koi nayaa trend le kar aataa hai, koi caterer nayee flavour kee dish le kar aataa hai, koee architact architecture meiN kuch novelty add kartaa hai – to ye sab use claim bhi karte haiN…………… agar maiN kar rahaa huN to harz naheeN honaa chaahiye

    har nayaa trend aane ke baad us meiN good or bad elements par discussion hotaa hai – vah bhi saheeh hai

    bahut saare log us meiN aur bhee naye experiments karte haiN us kaa bhi welcome hai

    magar Tufail dadaa ke sher ke mutaabiq jaal kaaTne vaale ko ignore naheeN karnaa chaahiye

  2. जब मैंने ये शे’र पहली बार सुना था तभी कह दिया था कि बहुत खूबसूरत है। नवीन भाई की बाकी शायरी एक तरफ और ये शे’र एक तरफ :)|

  3. Bahot bahot umda sher hai bhaiya
    Waaahhh waah

    Regards
    Alok

  4. navin bhai…kya lasaani sher kaha hai…. Aaine pe itne sher hue hain ki jiski koi had nahin…magar aapka ye sher hamesha yaad rakha jaayega

  5. मैं ने शाद साहब को उन के शेर पर दाद पेश की और अपने शेर का हिण्ट दिया जिसके जवाब में उन्होंने शुक्रिया कहा। उस के बाद मैं ने कहा
    Shad Sahab shukriya to mujhe aap ka kahna chahiye ki aap ne meri baat ko aage baDhaayaa varnaa to shayri m sheeshe ka ziyadatar sirf ek hi matlab samjha jata raha hai
    जिस के जवाब में शाद साहब ने यह कहा है
    ye baat aap ki hai na meri pehley bhi aisa bahut baar kaha ja chuka hai alag alag andaz se aur ye scientific fact bhi hai k jab sheesha eik taraf se rang diya jata hai to roshney us mein se guzarney kay bajai aks ki surat wapas laut ati hai

    ज़ंगार का शेर तो है मगर आईना शीशा अगर हो तो मुझे भी जानने की उत्सुकता है

    यह विषय किसी ग़ज़ल पर कमेण्ट देने के इतर है इसलिये मुझे अपने गुरुभाइयों की राय भी दरकार है

  6. दादा आभारी हूँ

    इस थीम पर मेरे दो अन्य शेर

    शायद इन में भी हो सिस्टम उम्र वाला
    मत कसो ताने पुराने आईनों पर

    ****

    वक़्त का हर एक तौर हमेशा ठीक नहीं होता
    आईने का शीशा हो जाना खलता ही है

  7. वत्स स्वप्निल, इस शेर में लफ्ज़ ‘मगर’ की नशिस्त ठीक नहीं है. ये इस तरह होता तो बेहतर था.

    शीशा हूँ जिसके परली तरफ़ ज़ंग है मगर
    दुनिया समझ रही है मुझे, आइना हूँ मैं

    शाद साहब तक आपमें से जिसके पास उनका नम्बर हो नवीन के शेर के चरबे की बात पहुंचा दीजिये. वो भी पुराने मित्र हैं और बड़े दिल के व्यक्ति हैं. नवीन तो उनके वैसे भी छोटे हैं. ये विषय बात करने से सुलझ जायेगा. निश्चित रूप से वो अपने शेर को वापस ले लेंगे या बतायेंगे कि उन्होंने ये शेर पहले कहा है और इसका प्रमाण ये है. कई बार लाशऊर में ख़याल पड़ा रह जाता है और अपने लफ़्ज़ों में ढल जाता है.

  8. आदरणीय मयड़्क जी सादर प्रणाम। शेर को सम्मान देने के लिये बहुत-बहुत आभार। इस कैनवस से तो अब भी बहुत से लोग आँख चुरा रहे हैं। बहरहाल यह शेर ख़ुशबीर सिंह शाद साहब का है। मुझे ख़ुशी है कि उन्होंने इस कैनवस का इस्तेमाल किया। इस उपलब्धि, अगर यह उपलब्धि है तो, का श्रेय आप को तुफ़ैल साहब को बल्कि पूरे लफ़्ज़ परिवार को जाता है।

  9. शीशा हूँ जिसके परली तरफ ज़ंग है बहुत
    दुनिया समझ रही है मगर आइना हूँ मैं
    bahut umda she’r hai bhaiya… shaer ka naaam pata chale to zurur bataaiyega..

Your Opinion is counted, please express yourself about this post. If not a registered member, only type your name in the space provided below comment box - do not type ur email id or web address.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: