19 टिप्पणियाँ

T-19/2 प्यार की आप न रखिये कोई आशा मुझसे-सिद्ध नाथ सिंह

प्यार की आप न रखिये कोई आशा मुझसे
छोड़िये हो न सकेगा ये तमाशा मुझसे

वो जो करती है करूँ मैं भी वो देखादेखी
ये न उम्मीद रखे कह दो ये दुनिया मुझसे

आप को होगा सहल प्यार मे धोख़ा करना
बाज़ रखियेगा न हो पायेगा धोखा मुझसे

नीची तबक़ाती नजरिये से हैं बस्ती मेरी
लोग रखने में हिचकने लगे रिश्ता मुझसे

फिर दिखाया न पलट के कभी चेहरा मुझको
सात जनमों का गये करके थे वादा मुझसे

दुश्मनी अपनी पुरानी ही कोई थी शायद
दूर पैसे से रहा मैं, रहा पैसा मुझसे

दिल न इस हाल में देता है गवाही मेरा
यूँ दिखावे का लगेगा न ठहाका मुझसे

कैसे काटूँगा भला कोह बता तू फ़रहाद
नातवानी में न उठ पायेगा तेशा मुझसे

सिद्ध नाथ सिंह 09414068365

Advertisements

About Lafz Admin

Lafzgroup.com

19 comments on “T-19/2 प्यार की आप न रखिये कोई आशा मुझसे-सिद्ध नाथ सिंह

  1. दुश्मनी अपनी पुरानी ही कोई थी शायद
    दूर पैसे से रहा मैं, रहा पैसा मुझसे

    दिल न इस हाल में देता है गवाही मेरा
    यूँ दिखावे का लगेगा न ठहाका मुझसे

    वाह बहुत खूब, दाद क़ुबूल कीजिये सिद्धनाथ जी !!

  2. दुश्मनी अपनी पुरानी ही कोई थी शायद
    दूर पैसे से रहा मैं, रहा पैसा मुझसे

    अच्छी ग़ज़ल हुई है …. बधाई

  3. Achchi ghazal hui hai janaab.. Matle aur Aakhir sher par alag se daad.. behad mubarkbaad!!

    # Asif Amaan

  4. कैसे काटूँगा भला कोह बता तू फ़रहाद
    नातवानी में न उठ पायेगा तेशा मुझसे

    umda sher waah waah !!!!

  5. BAHUT KHOOB …KAI SHER BEHAD RAWAAn DAWAAn haiN,,,
    DAAD HAAZIR HAI…
    DR AZAM

  6. दुश्मनी अपनी पुरानी ही कोई थी शायद
    दूर पैसे से रहा मैं, रहा पैसा मुझस..kya kehne Siddhanath ji…bahut khoob..daad qubule’n
    – kanha

  7. दुश्मनी अपनी पुरानी ही कोई थी शायद
    दूर पैसे से रहा मैं, रहा पैसा मुझसे
    Bahut Khoob Singh saahab!

  8. प्यार की आप न रखिये कोई आशा मुझसे
    छोड़िये हो न सकेगा ये तमाशा मुझसे
    वाह !!! वो दर्दे मुहब्बत सही तो क्या मर जायें –कुछ तो होटल हैं मुहब्बत मे जुनूँ के आसार // और कुछ लोग भी अफसाना बना देते है –सच्चा और अच्छा शेर कहा है सिद्धनाथ साहब !! बधाई !!!
    वो जो करती है करूँ मैं भी वो देखादेखी
    ये न उम्मीद रखे कह दो ये दुनिया मुझसे
    शेर सामईन पर असर डालेगा !! काफिये ने पूरे अर्थ को समेटा है दुनिया पर बात खुलती है और तब तक रम्ज़ियत के पर्दे मे रहती है –खूब !!
    नीची तबक़ाती नजरिये से हैं बस्ती मेरी
    लोग रखने में हिचकने लगे रिश्ता मुझसे
    ज़माने का चलन !!!
    दिल न इस हाल में देता है गवाही मेरा
    यूँ दिखावे का लगेगा न ठहाका मुझसे
    मै गम को खुशी कैसे कह दूँ जो कहते हैं उनको कहने दो //या दिल के सुनो दुनिया वालो , या मुझको अभी चुप रहने दो !!! –फिर सही और अच्छा कहा है
    कैसे काटूँगा भला कोह बता तू फ़रहाद
    नातवानी में न उठ पायेगा तेशा मुझसे
    जब तक नातवानी का अहसास है तेशा नही उठेगा –ये मुआमला – जुनून का है –बहुत सहीह कहा !!!
    सिद्ध नाथ सिंह-साहब !! गज़ल पर दाद !!! बधाई !! –मयंक

  9. दिन बी दिन आपके लहजे में निखार आता जा रहा है. ये शेर निशानदेही कर रहा है कि आपकी शायरी का भविष्य बहुत उज्जवल है

    दुश्मनी अपनी पुरानी ही कोई थी शायद
    दूर पैसे से रहा मैं, रहा पैसा मुझसे

  10. प्यार की आप न रखिये कोई आशा मुझसे
    छोड़िये हो न सकेगा ये तमाशा मुझसे

    वो जो करती है करूँ मैं भी वो देखादेखी
    ये न उम्मीद रखे कह दो ये दुनिया मुझसे

    आप को होगा सहल प्यार मे धोख़ा करना
    बाज़ रखियेगा न हो पायेगा धोखा मुझसे
    आ. सिद्धनाथ सा. बहुत खुबसूरत मतले के साथ एक मुकम्मल ग़ज़ल हुई है ,ढेरों दाद कबूल फरमाएं
    सभी अशहार नायाब है तथा इस ज़मीन के अनुकूल है
    सादर
    खुरशीद खैराड़ी जोधपुर

  11. Sarasari dekhne par matle m aashas tamaashaa dekh kar chouNknaa swabhawik hai magar dada ki nazar se gujra hai isliye tasallee bhi hoti hai

    BaDhiya ghazal. Badhai buddhinaath ji

  12. सिद्ध नाथ सिंह ji kya kahne waah waah daad qubool karen,

Your Opinion is counted, please express yourself about this post. If not a registered member, only type your name in the space provided below comment box - do not type ur email id or web address.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: