5 टिप्पणियाँ

T-17/32 बस्ती में कोई बेदरो-दहलीज़ घर न था-असरार-उल-हक़ ‘असरार’

बस्ती में कोई बेदरो-दहलीज़ घर न था
मेरी ही दस्तकों में हुनर मोतबर न था

पैराहने-हयात की पैमाइशें ही क्या
गर पांव ढक लिये हैं तो चादर में सर न था

दावे तो बेहिसाब अनल-हक़ के थे मगर
मंसूर अहदे-नौ का कोई दार पर न था

हम थे कि देख लेते थे हर संग में सनम
हुस्ने-नज़र के साथ शऊरे-नज़र न था

हम शोला-शोला पीते रहे उम्र भर ये आग
इक अश्क भी तो ऐसा न था जिसमें शर न था

देखा बग़ौर खुद में जो इक बार झांक कर
पहला सा उनका दर्द भी अब मोतबर न था

हमको चमक-दमक न ज़माने की छू सकी
जुगनू भी सहने-शब में उधर था इधर न था

माना कि सरफ़राज़ थे शबनम-मिज़ाज लोग
लेकिन बग़ैर शर भी तो कोई बशर न था

‘असरार’ ज़ख्म-ज़ख्म सौ मंज़र लिये फिरे
ख़ुश-दीद तो बहुत थे कोई दीदावर न था

असरार-उल-हक़ ‘असरार’ 09410274896/09568398400

Advertisements

About Lafz Admin

Lafzgroup.com

5 comments on “T-17/32 बस्ती में कोई बेदरो-दहलीज़ घर न था-असरार-उल-हक़ ‘असरार’

  1. बहुत खूब असरार साहब, दाद कुबूल कीजिए

  2. बस्ती में कोई बेदरो-दहलीज़ घर न था
    मेरी ही दस्तकों में हुनर मोतबर न था
    ilzaam khud par liya hai ki dastakon ka asar nahin hua !! Ye badaappan hai shair ka varna –log Khirmaqadam na kiye jaane par shahar ko andhon aur baharon ka shahar karar dete hain !! Matale par taaliyaan !! sher ki narmi saari sattaish ki haqdaar hai !!!
    पैराहने-हयात की पैमाइशें ही क्या
    गर पांव ढक लिये हैं तो चादर में सर न था
    zindagi ki chadar me badan samet lene par ek sher –
    badan samet liya zindagi ki chadar me
    ye aadami hai ki majabooriyon ki gathari hai –Mayank
    दावे तो बेहिसाब अनल-हक़ के थे मगर
    मंसूर अहदे-नौ का कोई दार पर न था
    ahade nau ke numainde kisi taazaa madeene ki justajoo me hain –inme koi mansoor hoga –ye gunjaaish kum hai !! han ! jahan tak zubaan chalaane ki baat hai kisi ka daava kamzor nahin – mmmmmmm koiu mmmmmmm
    हम थे कि देख लेते थे हर संग में सनम
    हुस्ने-नज़र के साथ शऊरे-नज़र न था ….
    tanz hai !! Patthar ke sanam patthar hi hote hain !! sang me usase siva kuchh dekhana husne nazar ki baat hai –Euphemism hai –shoore nazar ka kafiya bahut umda ayaa hai !!!
    हम शोला-शोला पीते रहे उम्र भर ये आग
    इक अश्क भी तो ऐसा न था जिसमें शर न था
    Ek to ahasaas ki talkhi oopar se use zabt karane ki bandhish !! dono ko mila kar achha sher utara hai !!!
    देखा बग़ौर खुद में जो इक बार झांक कर
    पहला सा उनका दर्द भी अब मोतबर न था
    apane ander ki halchal par jab gaur kiya to – paaya ki unaka gham bhi ab apana –jaadoo kho chuka hai –maine samjha tha ki to hai to daraKhshaan hai hayaat !! Tera Gham hai to ghame dahar ka jhagada kya hai ?!! – Muhabbat ek review chahati hai !!
    हमको चमक-दमक न ज़माने की छू सकी
    जुगनू भी सहने-शब में उधर था इधर न था
    saani misare se shrooa kare to ek achhoti girah isme lagai gai hai !! Hamari zindagi me siyaahi thi !! is baat ko behad jaandaar alfaz diye gaye hain !! aur jinaki zindagi me siyaahi nahin hai unaka haaasil kya hai juganu !!! ye bhi ek dilchasp khyaal hai !!
    ‘असरार’ ज़ख्म-ज़ख्म सौ मंज़र लिये फिरे
    ख़ुश-दीद तो बहुत थे कोई दीदावर न था
    Saani misra khud ek tarahi misra hai –muqammal misra hai –self explinatory !!
    असरार-उल-हक़ ‘असरार’ sahab !! Is meyari Ghazal par saari taliyan aur poori daad !! __Mayank

  3. असरार-उल-हक़ ‘असरार’साहब,

    हम थे कि देख लेते थे हर संग में सनम
    हुस्ने-नज़र के साथ शऊरे-नज़र न था

    हम शोला-शोला पीते रहे उम्र भर ये आग
    इक अश्क भी तो ऐसा न था जिसमें शर न था

    हमको चमक-दमक न ज़माने की छू सकी
    जुगनू भी सहने-शब में उधर था इधर न था
    अशआर दाद के तलबगार नहीं,मुस्‍तहक़ हैं।

  4. असरार साहब क्या ही अच्छी ग़ज़ल है! मज़ा आ गया! भरपूर दाद!

  5. Asraar sahAb yun to poori ghazal meyari hai lekin..
    दावे तो बेहिसाब अनल-हक़ के थे मगर.
    मंसूर अहदे-नौ का कोई दार पर न था…is sher ka to jawaab hi nahi waah waah

Your Opinion is counted, please express yourself about this post. If not a registered member, only type your name in the space provided below comment box - do not type ur email id or web address.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: