16 Comments

ग़ज़ल की प्रचलित 32 बहरें – नवीन

प्रणाम
आदरणीय आर. पी. शर्मा महर्षि जी की विभिन्न पुस्तकों से अर्जित जानकारी के आधार पर तथा उस्ताज़ आदरणीय तुफ़ैल साहब की निगरानी में काम करते हुये आज ग़ज़ल की प्रचलित 32 बहरों पर काम पूरा हुआ। बहरें तो और भी कई हैं, परन्तु मैंने मुख्यत: व्यावहारिक तथा महर्षि जी द्वारा निर्देशित बहरों को ही केंद्र में रखा है। समस्त 32 बहरों को उन के नाम, अरकान, वर्णिक संकेत तथा उदाहरण सहित पेश कर रहा हूँ। उम्मीद करता हूँ कि यह प्रयास इच्छुक व्यक्तियों के लिये उपयोगी सिद्ध होगा। यदि इस उपक्रम में मेरी कम-इल्मी की वज़्ह से या असावधानीवश कहीं कोई भूल रह गई हो तो मैं उस के लिये क्षमा प्रार्थी हूँ तथा आप सभी से विनम्र निवेदन करता हूँ कि उक्त ग़लती को संज्ञान में लाते हुये सुधरवाने की कृपा करें। यदि आप को लगे कि यह प्रयास आप के काम का है तो जीवन में कम से कम एक व्यक्ति तक इस जानकारी को पहुँचा कर मुझे अनुग्रहीत करें।
 
आभार
 
1. बहरे कामिल मुसम्मन सालिम
मुतफ़ाइलुन मुतफ़ाइलुन मुतफ़ाइलुन मुतफ़ाइलुन
11212 11212 11212 11212
 
ये चमन ही अपना वुजूद है इसे छोड़ने की भी सोच मत
नहीं तो बताएँगे कल को क्या यहाँ गुल न थे कि महक न थी
——————————————–
2. बहरे खफ़ीफ मुसद्दस मख़बून
फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ेलुन
2122 1212 22
 
प्या ‘स’ को प्या ‘र’ करना था केवल
एक अक्षर बदल न पाये हम
——————————————–
3. बहरे मज़ारिअ मुसम्मन मक्फ़ूफ़ मक्फ़ूफ़ मुख़न्नक मक़्सूर
मफ़ऊल फ़ाइलातुन मफ़ऊल फ़ाइलातुन
221 2122 221 2122
 
जब जामवन्त गरजा, हनुमत में जोश जागा
हमको जगाने वाला, लोरी सुना रहा है
 ——————————————–
4. बहरे मुजतस मुसमन मख़बून महज़ूफ
मुफ़ाइलुन फ़यलातुन मुफ़ाइलुन फ़ेलुन
1212 1122 1212 22
 
भुला दिया है जो तूने तो कुछ मलाल नहीं
कई दिनों से मुझे भी तेरा ख़याल नहीं
 ——————————————–
5. बहरे मज़ारिअ मुसमन अख़रब मकफूफ़ मकफूफ़ महज़ूफ़
मफ़ऊल फ़ाइलात मुफ़ाईलु फ़ाइलुन
221 2121 1221 212
 
क़िस्मत को ये मिला तो मशक़्क़त को वो मिला
इस को मिला ख़ज़ाना उसे चाभियाँ मिलीं
 ——————————————–
6. बहरे मुतकारिब मुसद्दस सालिम
फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊलुन
122 122 122
 
कहानी बड़ी मुख़्तसर है
कोई सीप कोई गुहर है
——————————————– 
7. बहरे मुतकारिब मुसमन सालिम
फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊलुन
122 122 122 122
 
वो जिन की नज़र में है ख़्वाबेतरक़्क़ी
अभी से ही बच्चों को पी. सी. दिला दें
 ——————————————–
8. बहरे मुतक़ारिब मुसम्मन मक़्सूर
फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़अल
122 122 122 12
 
इबादत की किश्तें चुकाते रहो
किराये पे है रूह की रौशनी
 ——————————————–
9. बहरे मुतदारिक मुसद्दस सालिम
फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन
212 212 212
 
सीढ़ियों पर बिछी है हयात
ऐ ख़ुशी! हौले-हौले उतर
 ——————————————–
10. बहरे मुतदारिक मुसम्मन अहज़ज़ु आख़िर
फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ा
212 212 212 2
 
अब उभर आयेगी उस की सूरत
बेकली रंग भरने लगी है
——————————————– 
11. बहरे मुतदारिक मुसम्मन सालिम
फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन
212 212 212 212
 
जब छिड़ी तज़रूबे और डिग्री में जंग
कामयाबी बगल झाँकती रह गयी
 ——————————————–
12. बहरे रजज़ मख़बून मरफ़ू’ मुख़ल्ला
मुफ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ऊलुन मुफ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ऊलुन
1212 212 122 1212 212 22
 
बड़ी सयानी है यार क़िस्मत, सभी की बज़्में सजा रही है
किसी को जलवे दिखा रही है कहीं जुनूँ आजमा रही है
 ——————————————–
13. बहरे रजज़ मुरब्बा सालिम
मुस्तफ़इलुन मुस्तफ़इलुन
2212 2212
 
ये नस्ले-नौ है साहिबो
अम्बर से लायेगी नदी
 ——————————————–
14. बहरे रजज़ मुसद्दस मख़बून
मुस्तफ़इलुन मुफ़ाइलुन
2212 1212
 
क्या आप भी ज़हीन थे?
आ जाइये – क़तार में
 ——————————————–
15. बहरे रजज़ मुसद्दस सालिम
मुस्तफ़इलुन मुस्तफ़इलुन मुस्तफ़इलुन
2212 2212 2212
 
मैं वो नदी हूँ थम गया जिस का बहाव
अब क्या करूँ क़िस्मत में कंकर भी नहीं
 ——————————————–
16. बहरे रजज़ मुसम्मन सालिम
मुस्तफ़इलुन मुस्तफ़इलुन मुस्तफ़इलुन मुस्तफ़इलुन
2212 2212 2212 2212
 
उस पीर को परबत हुये काफ़ी ज़माना हो गया
उस पीर को फिर से नयी इक तरजुमानी चाहिये
 ——————————————–
17. बहरे रमल मुरब्बा सालिम
फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन
2122 2122
 
मौत से मिल लो, नहीं तो
उम्र भर पीछा करेगी
 ——————————————–
18. बहरे रमल मुसद्दस मख़बून मुसककन
फ़ाइलातुन फ़यलातुन फ़ेलुन
2122 1122 22
 
सनसनीखेज़ हुआ चाहती है
तिश्नगी तेज़ हुआ चाहती है
 ——————————————–
19. बहरे रमल मुसद्दस महज़ूफ़
फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन
2122 2122 212
 
अजनबी हरगिज़ न थे हम शह्र में
आप ने कुछ देर से जाना हमें
 ——————————————–
20. बहरे रमल मुसद्दस सालिम
फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन
2122 2122 2122
 
ये अँधेरे ढूँढ ही लेते हैं मुझ को
इन की आँखों में ग़ज़ब की रौशनी है
 ——————————————–
21. बहरे रमल मुसमन महज़ूफ़
फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन
2122 2122 21222 212
 
वह्म चुक जाते हैं तब जा कर उभरते हैं यक़ीन
इब्तिदाएँ चाहिये तो इन्तिहाएँ ढूँढना
 ——————————————–
22. बहरे रमल मुसम्मन मख़बून महज़ूफ़
फ़ाइलातुन फ़यलातुन फ़यलातुन फ़ेलुन
2122 1122 1122 22
 
गोया चूमा हो तसल्ली ने हरिक चहरे को
उस के दरबार में साकार मुहब्बत देखी
 ——————————————–
23. बहरे रमल मुसम्मन मशकूल सालिम मज़ाइफ़ [दोगुन]
फ़यलात फ़ाइलातुन फ़यलात फ़ाइलातुन
1121 2122 1121 2122
 
वो जो शब जवाँ थी हमसे उसे माँग ला दुबारा
उसी रात की क़सम है वही गीत गा दुबारा
 ——————————————–
24. बहरे रमल मुसम्मन सालिम
फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन
2122 2122 2122 2122
 
कल अचानक नींद जो टूटी तो मैं क्या देखता हूँ
चाँद की शह पर कई तारे शरारत कर रहे हैं
 ——————————————–
25. बहरे हज़ज मुसद्दस महजूफ़
मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन फ़ऊलुन ,
1222 1222 122
 
हवा के साथ उड़ कर भी मिला क्या
किसी तिनके से आलम सर हुआ क्या
 ——————————————–
26. बहरे हज़ज मुसद्दस सालिम
मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन
1222 1222 1222
 
हरिक तकलीफ़ को आँसू नहीं मिलते
ग़मों का भी मुक़द्दर होता है साहब
 ——————————————–
27. बहरे हजज़ मुसमन अख़रब मक्फ़ूफ मक्फ़ूफ मक्फ़ूफ महज़ूफ़ 
मफ़ऊल मुफ़ाईल मुफ़ाईल फ़ऊलुन
221 1221 1221 122
 
आवारा कहा जायेगा दुनिया में हरिक सम्त
सँभला जो सफ़ीना किसी लंगर से नहीं था
 ——————————————–
28. बहरे हज़ज मुसम्मन अख़रब मक़्फूफ़ मक़्फूफ़ मुख़न्नक सालिम
मफ़ऊल मुफ़ाईलुन मफ़ऊल मुफ़ाईलुन
221 1222 221 1222
 
हम दोनों मुसाफ़िर हैं इस रेत के दरिया के
उनवाने-ख़ुदा दे कर तनहा न करो मुझ को
 ——————————————–
29. बहरे हज़ज मुसम्मन अशतर मक़्फूफ़ मक़्बूज़ मुख़न्नक सालिम
फ़ाइलुन मुफ़ाईलुन फ़ाइलुन मुफ़ाईलुन
212 1222 212 1222
 
ख़ूब थी वो मक़्क़ारी ख़ूब ये छलावा है
वो भी क्या तमाशा था ये भी क्या तमाशा है
 ——————————————–
30. बहरे हज़ज मुसम्मन अशतर मक़्बूज़, मक़्बूज़, मक़्बूज़
फ़ाइलुन मुफ़ाइलुन मुफ़ाइलुन मुफ़ाइलुन
212 1212 1212 1212
 
लुट गये ख़ज़ाने और गुन्हगार कोइ नईं
दोष किस को दीजिये जवाबदार कोई नईं
 ——————————————–
31. बहरे हज़ज मुसम्मन मक़्बूज़
मुफ़ाइलुन मुफ़ाइलुन मुफ़ाइलुन मुफ़ाइलुन
1212 1212 1212 1212
 
गिरफ़्त ही सियाहियों को बोलना सिखाती है
वगरना छूट मिलते ही क़लम बहकने लगते हैं
 ——————————————–
32
बहरे हज़ज मुसम्मन सालिम
मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन
1222 1222 1222 1222
 
मुझे पहले यूँ लगता था करिश्मा चाहिये मुझको
मगर अब जा के समझा हूँ क़रीना चाहिये मुझको
 ——————————————–
:- नवीन सी. चतुर्वेदी
+91 99 670 24 593 

About Navin C. Chaturvedi

www.saahityam.org 09967024593 navincchaturvedi@gmail.com http://vensys.in

16 comments on “ग़ज़ल की प्रचलित 32 बहरें – नवीन

  1. बहुतख़ूब जानकारी…👍👌💐

  2. आदरणीय जी बहरे 19 है तो 32 कैसे हो गई

  3. सर आपने बहुत ही उम्दा जनकारी दी है। मेरा एक प्रश्न ही कि बहर के प्रचलन से पहले ग़ज़ल नहीं लिखी जाती थी? क्या ग़ालिब साहिब की सब ग़ज़लें बहर के मापदंड में आती हैं?

  4. चतुर्वेदी जी

    आपकी बहुमूल्य जानकारी को मुझ जैसे अल्पज्ञों के समझाने के लिए निम्न तालिका बनाई है. यदि इसमें कोई बड़ी गलती हो तो बताएं. छोटी-मोटी गलतियाँ तो होंगी ही, क्योंकि यह किसी विद्वान का विश्लेषण नहीं है.

  5. bAhoor ko hindi me pesh karne ki kamyaab koshish k liye badhayi……kuchh print ki ghAltiyaN meri nAzar me aayiN behr No(3),(5),(27),(28) me mAf-ool ko mAf-oolu=221 hona chahiye /behr(5) me fa-ilat ko fa-ilatu=2121, (23) me fAy-laat ko FAy-laatu(fA- i -laatu)=1121,(27) me mufa -eel ko mufa-eeiu=1221,hona chahiye /behr (12) me fA-oo-lAn ka wazn 22 print hai jo 122 hona chahiye…ummeed hai ghAur fArmyen ge

    • तहेदिल से शुक्रगुज़ार हूँ आप का भाई.

      आप ने वक़्त निकाल कर न सिर्फ़ इस पोस्ट को पढ़ा बल्कि मिस्टेक्स को नोटिफाई भी किया. आप का कहना एक दम बजा है. जल्द ही इन को सुधारता हूँ. और भी कुछ मिस्टेक्स हों तो देखिएगा प्लीज. फिर से बहुत-बहुत शुक्रिया.

  6. example 3..rukn awwAl mAf-ool (hurf aakhir sakin) likh gaya hai jAb k iss ka wAzAn mAf-oo-lu(hurf aakhir mutahhrik),,221..hai

  7. अत्यंत महत्त्वपूर्ण जानकारी साझा हुई है आपकी ओरसे नवीन भाईजी जिसे सीखने के क्रम में जागरुक अभ्यासकर्ता और पाठक जान तो जाते हैं लेकिन इस तरह कॉलम में लिखा होना सभी के प्रयास को और सरल कर देता है.
    कुछ टंकण त्रुटियाँ रह गयी हैं, भाईजी जिनका निवारण हो जाना जरूरी है.
    एक उदाहरण, क्रमसं. 8 में बह्र के वज़्न को लिखते समय आखिरी रुक्न का मात्र ग़ाफ़ लिखा होना. वह 1 2 होना चाहिये. वैसे, उसके लिए फ़उल का सही इस्तमाल हुआ है.
    सादर

    • आप का बहुत-बहुत शुक्रिया आदरणीय, इंगित भूल का सुधार कर दिया है। काम करने वाले को अपनी भूल नहीं मालूम पड़ती है, आप जैसे सुधिजन सुधरवाते हैं। बहुत-बहुत आभार।

  8. Dada..bahut hi mahattwapurn jaankari ke liye dil se abhar .bahut shukriya ,is post ko maine draft bana ke rakh liya hain,thanks a ton to you .

  9. नवीन जी, तुफैल जी. बहरों की उदाहरण सहित दी गई इस अमूल्य जानकारी के लिए धन्यवाद.

  10. Eye opening article. An educational step has taken by you. Regards

Your Opinion is counted, please express yourself about this post. If not a registered member, only type your name in the space provided below comment box - do not type ur email id or web address.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: