30 Comments

T-13/14 रो-धो के सब कुछ अच्छा हो जाता है-प्रखर मालवीय ‘कान्हा’

रो-धो के सब कुछ अच्छा हो जाता है
मन जैसे रुठा बच्चा हो जाता है

कितना गहरा लगता है ग़म का सागर
अश्क बहा लूं तो उथला हो जाता है

लोगों को बस याद रहेगा ताजमहल
छप्पर वाला घर क़िस्सा हो जाता है

मिट जाती है मिट्टी की सोंधी ख़ुशबू
कहने को तो, घर पक्का हो जाता है

नीँद के ख़ाब खुली आँखों से जब देखूँ
दिल का इक कोना ग़ुस्सा हो जाता है

प्रखर मालवीय ‘कान्हा’ 08057575552

Advertisements

About Lafz Admin

Lafzgroup.com

30 comments on “T-13/14 रो-धो के सब कुछ अच्छा हो जाता है-प्रखर मालवीय ‘कान्हा’

  1. मालवीय जी
    सारे शेर बेहतरीन

    मिट जाती है मिट्टी की सोंधी ख़ुशबू
    कहने को तो, घर पक्का हो जाता है
    बदलते वक्त का सच छुपा है इस शेर में !!!!

  2. अच्छी ग़ज़ल है मगर आपके कमेंट बिखर गये हैं। जिस कमेंट पर जवाब पोस्ट करना हो उसमें reply पर क्लिक कीजिये। नीचे बॉक्स खुल जायेगा। उसमें अपने जवाब पोस्ट किया कीजिये।

    • Dada sadar charan sparsh …..
      apki tareef pe shukriya kehna bhi apke pyar ko kam karna hoga …apke comment ne hamari ghazal ko char chand lga diye …
      Kshama kare’n is baat pe maine gour ni kia tha …ab dhyan dunga …ashirwad bna rhe..
      snehakanshi

      Kanha

  3. pranam mayank sir …
    ..smjh ni aa rha apka shukriya kin shabdo me adaa karu’n?
    Apki tareef jis ghazal ko mil jaye wo yu hi mukkamal ho jati hai …inayat ke liye aabhar….nazar-e-karam banaye rakhe’n

    Saadar
    kanha

  4. प्रखर मालवीय ‘कान्हा’ जी 5 अच्छे अश आर !! इस शेर पर विशेष दाद !!
    कितना गहरा लगता है ग़म का सागर
    अश्क बहा लूं तो उथला हो जाता है
    दीगर अश आर भी खूब पसन्द आये –मयंक

  5. aadarniya Dinesh Sir …apke is sneh ka hum tah-e-dil se swagat krte hain…karam banaye rakhe’n….aabhar
    saadar

    kanha

  6. aadarniya goutam sir….aabhar….apko hamari ghazal pasand aayi ye ghazal aur hamari dono ki. khuskishmati hai…ashirwad bnaye rakhe’n

    kanha

  7. मिट जाती है मिट्टी की सोंधी ख़ुशबू
    कहने को तो, घर पक्का हो जाता है

    Aha…. Kehne ko to ghar pakka ho jaata hai…Waah Kya kehne….bahut achhi gazal hai Prakharji… 🙂

  8. बढ़िया ग़ज़ल प्रखर जी…लोगों को बस याद रहेगा ताजमहल वाला शेर बहुत पसंद आया |

  9. bahut bahut shukriya alok sir …apka aashirwad hai bs …apko meri ghazal pasand aayi sun k atyant harsh hua …
    Snehakankshi Anuj

    Kanha

  10. कितना गहरा लगता है ग़म का सागर
    अश्क बहा लूं तो उथला हो जाता है

    लोगों को बस याद रहेगा ताजमहल
    छप्पर वाला घर क़िस्सा हो जाता है

    मिट जाती है मिट्टी की सोंधी ख़ुशबू
    कहने को तो, घर पक्का हो जाता है

    bahot achha kaha prakhar jii,badhayi

  11. ji saurabh sir …bahut bahut dhanyawad ………yaha par ye meri pehli ghazal hai ..aap jaise umdaa aur anmol shayar k muh se tareef k 2 alfaz housla-afzai k liye amrit hain … .bs seekhne ki koshis kar rha hu … aap logo ka pyar aur ashirwad pa ke hme jo khushi mili hai …wo lafzo me baya’n kar pana muskil hai hamare liye…
    saadar

    kanha

  12. भाई प्रखर जी पहली बार पढ़ रहा हूँ आपको..उम्दा ग़ज़ल कही है आपने..

    मिट जाती है मिट्टी की सोंधी ख़ुशबू
    कहने को तो, घर पक्का हो जाता है….क्या कहने!

  13. Navneet ji ….is inaayat ke liye aabhar ….musalsal karam bnaye rakhe’n…
    saadar

  14. भाई कान्‍हा जी,
    खुश रहिए………और जीते रहिए….।

    सारी ग़ज़ल बहुत अच्‍छी लेकिन यह शे’र हमेशा याद रहेगा :

    मिट जाती है मिट्टी की सोंधी ख़ुशबू
    कहने को तो, घर पक्का हो जाता है

    वाह…वाह…वाह…।
    शुक्रिया
    नवनीत

  15. ek bar fir se abhar vyakta krta hu khursheed ji …aap logo ki chhtrachhaya me yakinan is nacheej ki lekhani sawar jayegi …ummeed hai aap sbki apeksha pe khara utrunga …
    saadar

    Kanha

  16. subodh sahab …apke ye chand shabd anmol hain hamare liye …tah-e-dil se shukriya kubul kare’n
    saadar

    Kanha

  17. aho bhagya Tiwari ji …jo is nacheej ke khayalat apko pasand aaye …bahut bahut aabhar ..
    saadar
    आपका स्नेहाकांक्षी अनुज

  18. मिट जाती है मिट्टी की सोंधी ख़ुशबू
    कहने को तो, घर पक्का हो जाता है
    वाह …अच्छा शे’र हुआ है प्रखर जी…. दाद क़ुबूल करें…

  19. Prakharji
    Kya zabardast sher kaha hai aapne…wah wah wah:
    मिट जाती है मिट्टी की सोंधी ख़ुशबू
    कहने को तो, घर पक्का हो जाता है
    bahut bahut badhaaee

  20. Singh sahab housla afjai ke liye bahut bahut dhanyawad ….yakinan apki tippani ne ghazal ki shobha badha di hai ….bs ab Dada ke comment aur aa jayen to ghajal ko safal smjhunga …aashirwad banaye rakhe’n

  21. haasile gazal she’r-
    मिट जाती है मिट्टी की सोंधी ख़ुशबू
    कहने को तो, घर पक्का हो जाता है
    arthon ka sansaar samete,sadiyon ka dukh bhaar samete!

  22. @rajmohan chauhan- bahut bahut dhanyawand sir …aashirwad banaye rakhe’n…apka comment pa ke atyant harsh hua

  23. @Rajeev bharol sir- shukriya sir ..apke tareef ke ye lafz mere liye bahut mayne rakhte hain …tah-e-dil se shukriya

  24. Kanha ji Aap ne antartam ko chhoo liya. Mujhe wastaw me isi tarah ke khayal pasand aate hain. Sadhuwad.

  25. कान्हा जी, बहुत बढ़िया ग़ज़ल…
    मिट जाती है मिट्टी की सोंधी ख़ुशबू
    कहने को तो, घर पक्का हो जाता है
    क्या शेर है.. वाह.

  26. khursheed sir ashirwad dijiye …..aapke samne meri umar aur mera shayri me kad bahut hi chhota hai ..aapke comment ke liye tah-e-dil se shukriya ….mai aap logo ki ghazale padh padh ke bada hua hu …apne aap ko lafz pariwar me pana aseem aanand ki anubhuti hai mere liye …aasha hai aap sbka pyar aur aashirwad milta rhega ..

    kanha

    • प्रियवर,अदब की दुनिया में कोई बड़ा छोटा नहीं होता केवल रचना का कद आँका जाता है जैसे जैसे रचना का मयार ऊँचा होता जाता है रचनाकार कद्दावर होता जाता है आशा है आप अपनी रचना का मयार मुसल्सल ऊँचा करते रहेंगे
      खुश रहें

  27. लोगों को बस याद रहेगा ताजमहल
    छप्पर वाला घर क़िस्सा हो जाता है
    कान्हा जी ,सादर प्रणाम बहुत अच्छी ग़ज़ल के इस सुंदर शेर पर ढेरों दाद कबूल फ़रमाय
    मिट जाती है मिट्टी की सोंधी ख़ुशबू
    कहने को तो, घर पक्का हो जाता है
    क्या कहने ,बहुत बधाईयाँ

Your Opinion is counted, please express yourself about this post. If not a registered member, only type your name in the space provided below comment box - do not type ur email id or web address.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: