30 Comments

T-13/6 शाम का चेहरा जब धुँधला हो जाता है-अश्वनी शर्मा

शाम का चेहरा जब धुँधला हो जाता है
मन भारी भीगा-भीगा हो जाता है

यौवन, चेहरा, आँखें बहकें ही बहकें
रंग हिना का जब गाढ़ा हो जाता है

यकदम मर जाना,क्या मरना,यूँ भी तो
‘धीरे धीरे सब सहरा हो जाता है’

सपने की इक पौध लगाओ जीवन में
सुनते हैं ये पेड़ बड़ा हो जाता है

सब साझा करते, पलते, भाई भाई
कैसे फिर तेरा मेरा हो जाता है

ग़ोता गहरे पानी में मोती देगा
मन लेकिन उथला-उथला हो जाता है

बाँट रहा है सुख दुःख जाने कौन यहाँ
जो जिस को मिलता उसका हो जाता है

शीशा है दिल अक्स दिखायी देगा ही
मुस्काता जो बस अपना हो जाता है

देख लहू का रंग बहुत बतियायेगा
पूछेगा,वो क्यूँ फीका हो जाता है

भांज रहे हैं वो तलवारें, भांजेंगे
बस मुद्दा पारा पारा हो जाता है

अश्वनी शर्मा 09414052020

Advertisements

About Lafz Admin

Lafzgroup.com

30 comments on “T-13/6 शाम का चेहरा जब धुँधला हो जाता है-अश्वनी शर्मा

  1. अच्छी ग़ज़ल, बढ़िया गिरह।
    दाद क़ुबूल फ़रमाइये।

    सादर
    नवनीत

  2. बहुत अच्छी ग़ज़ल हुयी है अश्वनी जी…दाद क़बूलें !

  3. शाम का चेहरा जब धुँधला हो जाता है
    मन भारी भीगा-भीगा हो जाता है

    Aha… Kya achha manzar baandha hai Tanha shaam ka… Waah… Bahut pasand aaya ye sher 🙂

  4. वाह …अच्छी ग़ज़ल हुई है ..बधाई अश्विनी जी …

  5. आश्विनी साहब

    सपने की इक पौध लगाओ जीवन में
    सुनते हैं ये पेड़ बड़ा हो जाता है
    सादा लफ़्ज़ों में कही गयी असरदार बात !!!!

  6. सपने की इक पौध लगाओ जीवन में
    सुनते हैं ये पेड़ बड़ा हो जाता है
    सुन्दर शेर कहा है !!! अश्वनी साहब का शाइर उनके कवि को हम आहंग करता हुआ चलता है –इसलिये उनकी गज़ल में कुछ कुछ कविता का भी अनन्द मिलता है। छोटी बहर में उनको कमाल हासिल है । लेकिन दो भिन्न विधाओं में समर्थ होना और इस सामर्थ्य के सातत्य को अखण्ड रखना –मेरी नज़र में एक महती उपलब्धि है क्योंकि आजकल ज़िन्दगी के सारे संगीत को हमारे माहौल का शोर निगल जाता है –ऐसे में अपनी रचना प्रक्रिया के साथ साथ स्वयं को समस्वर किये रखना किसी तपश्चर्या से कम नहीं और यह तभी होता है जब काव्य आपकी नैसर्गिक अभिव्यक्ति हो – एक व्यस्त पद और एक व्यस्त ज़िन्दगी से अश्वनी साहब ने यह संगीत निकाला है और हर बार वो कोई यादगार शेर ज़रूर कहते हैं जो उनके शाइर का विभव बताता है – बधाई –मयंक

    • मयंक सर अब क्या कहूँ ……आप की ज़र्रा नवाजी है जो आप ने मान दिया…शुक्रिया दिल से

  7. बहुत सुन्दर

  8. उम्दा ग़ज़ल हुई है शर्मा साहब! सपने की इक पौध लगाओ जीवन में
    सुनते हैं ये पेड़ बड़ा हो जाता है ..वाह!

  9. सब साझा करते, पलते, भाई भाई
    कैसे फिर तेरा मेरा हो जाता है
    .सामाजिक सच्चाई को उकेरती ग़ज़ल
    बहुत सुन्दर ग़ज़ल.

  10. भांज रहे हैं वो तलवारें, भांजेंगे
    बस मुद्दा पारा पारा हो जाता है
    ye she’r bahut umda aur paaye ka laga!

  11. ग़ोता गहरे पानी में मोती देगा
    मन लेकिन उथला-उथला हो जाता है

    बाँट रहा है सुख दुःख जाने कौन यहाँ
    जो जिस को मिलता उसका हो जाता है
    अश्विनी जी प्रणाम,बहुत उम्दा ग़ज़ल और इतने गहरे शेरों के लिए ढेरों दाद कबूल फरमाएं

  12. शाम का चेहरा जब धुँधला हो जाता है
    मन भारी भीगा-भीगा हो जाता है

    यौवन, चेहरा, आँखें बहकें ही बहकें
    रंग हिना का जब गाढ़ा हो जाता है

    सपने की इक पौध लगाओ जीवन में
    सुनते हैं ये पेड़ बड़ा हो जाता है

    सब साझा करते, पलते, भाई भाई
    कैसे फिर तेरा मेरा हो जाता है

    क्या कहने ,बहुत ही खूबसूरत ग़ज़ल हुई है ,वाह वाह वाह।

    • आलोक मिश्र साहब शुक्रगुजार हूँ आप की मोहब्बतों का

  13. अच्छी ग़ज़ल, बढ़िया गिरह। वाह,वाह …. दाद क़ुबूल फ़रमाइये।

    • दादा आप की सर परस्ती में कुछ सीख पायें यही तमन्ना है …….. कृपा बनाए रखें

  14. bahut umda ghazal hui hai ashwani ji… girah bahut umdaa lagi…sapne ki ek paudh wala she’r bhi umda ban pada hai.. daad qubulen…

  15. बहुत खूब..

    शाम का चेहरा जब धुँधला हो जाता है
    मन भारी भीगा-भीगा हो जाता है

    सपने की इक पौध लगाओ जीवन में
    सुनते हैं ये पेड़ बड़ा हो जाता है

    वाह..
    बहुत बढ़िया ग़ज़ल..

Your Opinion is counted, please express yourself about this post. If not a registered member, only type your name in the space provided below comment box - do not type ur email id or web address.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: